HomeगोरखपुरGorakhpur news- यूपी: उप डाकघर के बचत खातों से खाताधारकों के 20...

Gorakhpur news- यूपी: उप डाकघर के बचत खातों से खाताधारकों के 20 लाख रुपये गायब, जांच शुरू

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां बांसगांव तहसील के शिवपुर हाटा बाजार उप डाकघर के 19 आरडी (रेकरिंग डिपॉजिट) खाताधारकों के खातों से लगभग 20 लाख रुपये गायब हो गए हैं। उन्हें शक है कि डाकघर के ही किसी एजेंट या कर्मचारी ने जालसाजी कर रुपये निकाले हैं। इस मामले में खाताधारकों ने प्रवर डाक अधीक्षक को पत्र लिखकर डाकघर के कर्मचारियों और एजेंटों की जांच कराने और रुपये वापस कराने की मांग की है। प्रवर डाक अधीक्षक ने पूरे मामले की जांच के लिए टीम गठित कर दी है।

खाताधारकों ने पत्र के माध्यम से बताया कि डाकघर के एजेंट पर भरोसा कर सभी तय समय पर किस्त की राशि सौंपते रहे। पिछले दिनों पता चला कि उनकी धनराशि खाते में नहीं है। पड़ताल की तो सामने आया कि विड्राल फार्म पर खाताधारकों के फर्जी हस्ताक्षर कर रकम खाते से निकाल ली गई है। खाताधारकों के पासबुक और लेजर में चढ़ी रकम में काफी अंतर मिला है। कुछ का तो पासबुक ही नहीं है, उसे फाड़कर फेंक दिया गया है।

इसे लेकर वहां के डाक कर्मियों ने प्रवर डाक अधीक्षक से शिकायत करने की बात कही। खाताधारकों ने डाक विभाग के कर्मियों से पूछा तो पता चला कि किस एजेंट ने रुपये निकाले इसकी जानकारी डाक कर्मियों को भी नहीं है। बृहस्पतिवार को सभी लोगों ने प्रवर डाक अधीक्षक मनीष कुमार से पूरे मामले की शिकायत की। प्रवर डाक अधीक्षक मनीष कुमार ने बताया कि मामला गंभीर है। मामले की जांच करवाई जाएगी। शिकायत सही पाई गई तो संबंधित एजेंट और कर्मचारी पर मुकदमा दर्ज करवा सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इनके खातों से निकले रुपये

विनय गुप्ता (60 हजार), अवधेश कुमार वर्मा (दो लाख 80 हजार), रवि प्रताप यादव (99 हजार) अनिल विश्वकर्मा (77 हजार), अजय कुमार निगम (दो लाख 60 हजार), दिनेश कुमार वर्मा (दो लाख 70 हजार), पिंकी देवी (11 हजार), राजीव वर्मा (24 हजार) विजय निगम (एक लाख पांच हजार), बेचन वर्मा (दो लाख 84 हजार) सतीश निगम (7500), रुक्मिणी वर्मा (एक लाख 36 हजार 500), दिनेश वर्मा (60 हजार), रीता देवी (एक लाख 20 हजार), राजीव वर्मा (24 हजार) माया देवी (एक लाख 60 हजार) बृजेश कुमार वर्मा (20 हजार 400 रुपये), इंदू वर्मा (48 हजार),  इंद्र कुमार वर्मा (24 हजार), अखिलेश वर्मा (24 हजार)।

Most Popular