Home लखनऊ Lucknow news- उगते सूर्य को अघ्र्य देकर छठ पर्व का समापन

Lucknow news- उगते सूर्य को अघ्र्य देकर छठ पर्व का समापन

अमेठी। पूर्वांचल के सबसे बड़े त्यौहारों में शुमार छठ पूजा का शनिवार को समापन हुआ। भोर में छठ व्रतियों ने उगते सूर्य को अर्घ्य दिया। इस मौके पर शहर के लोदी नाला घाट व अमेठी के मुंशीगंज रोड पर निर्मित अस्थाई घाट पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

आखिरी दिन निर्जला व्रत के मध्य व्रतियों ने नालों व पोखरों के किनारे छठ घाट पर भोर में पूजा अर्चना कर उगते सूर्य को अर्घ्य दिया। छठ घाट पर छठ के पारंपरिक गीत गूंज रहे थे। खरना के साथ छठ व्रतियों का 36 घंटे का उपवास शुरू हुआ था जिसका आज पारण हुआ।

नहाय खाय के साथ कार्तिक मास में अमावस्या के बाद चतुर्थी तिथि को छठ पूजा की शुरुआत होती है। दूसरे दिन खरना होता है। दिनभर व्रत रहकर व्रती शाम को अरवा चावल, गुड़ की खीर का प्रसाद ग्रहण करते हैं। इसके साथ ही 36 घण्टे का निर्जला व्रत शुरू हो जाता है।

षष्ठी को व्रत के साथ अस्तांचल सूर्य को अर्घ्य, उसके बाद सप्तमी को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद प्रसाद ग्रहण कर इस महापर्व का समापन हुआ। प्रकृति प्रेम का अनूठा मंजर इस महापर्व में दिखाई दे रहा है। मुंशीगंज रोड पर शिवालय के समीप बने छठ घाट पर व्रती किरण देवी, पूनम सिंह, मंजू सिंह, गार्गी सिंह, नीतू सिंह, प्रज्ञा सिंह, किरन सिंह सुमन सिंह आदि ने विधि विधान से पूजन किया।
वहीं कालिकन धाम के सगरा में तारापुर गांव की गुड़िया, चंदा वर्मा, संजू देवी, जानकी ने पूजा अर्चना कर अर्घ्य दिया। गुड़िया और चंदा का मायका बनारस तो संजू का मायका आजमगढ़ है।
मायके में होने वाले इस आयोजन को वे ससुराल में भी करती हैं। शहर के लोदी नाला के घाट पर भी बड़ी संख्या में महिलाओं ने उगते सूर्य को अर्घ्य दिया तो शहर के पचेहरी निवासी दीपक सिंह ने मौजूद लोगों में प्रसाद वितरित किया।

Most Popular