HomeलखनऊLucknow news - एक्टिव हुए मुख्तार अंसारी के गुर्गे: सबूत मिटाकर एम्बुलेंस...

Lucknow news – एक्टिव हुए मुख्तार अंसारी के गुर्गे: सबूत मिटाकर एम्बुलेंस को ढाबे पर लावारिस छोड़कर भागे; बाराबंकी पुलिस सीजकर UP वापस लाएगी

बीते सालों से मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल में बंद है। उसे वापस यूपी लाने के लिए टीम रवाना हो चुकी है। - Dainik Bhaskar

बीते सालों से मुख्तार अंसारी पंजाब की रोपड़ जेल में बंद है। उसे वापस यूपी लाने के लिए टीम रवाना हो चुकी है।

31 मार्च को पंजाब के मोहाली कोर्ट में पेशी के दौरान मुख्तार ने एम्बुलेंस का किया था इस्तेमालएंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन बाराबंकी का, फर्जी मिले दस्तावेज, 3 साल पहले खत्म हो चुका फिटनेस

बीते दो सालों से पंजाब की रोपड़ जेल में बंद बसपा के विधायक मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश लाने के लिए बांदा पुलिस रवाना हो गई है। वहीं, उत्तर प्रदेश नंबर की वह एंबुलेंस जिसमें पंजाब पुलिस ने मुख्तार अंसारी को मोहाली की अदालत में पेश किया था, वह रविवार रात रूपनगर जिले में रोपड़ जेल से 15 किमी दूर चंडीगढ़-नांगल हाइवे पर एक सड़क के किनारे ढाबे के पास लावारिस हालत में मिली है। इस एंबुलेंस पर फर्जी दस्तावेज के मामले में बाराबंकी में FIR भी दर्ज है।

कहा जा रहा है कि UP पुलिस के आने से पहले ही अंसारी के गुर्गे उस एंबुलेंस को खुर्द-बुर्द करने में लग गए। शायद पुलिस के आने की सूचना अपराधियों को मिल गई होगी, इसलिए वे ढाबे पर ही उसे लावारिस हालत में छोड़कर भाग गए। बाराबंकी के SP यमुना प्रसाद ने कहा कि एंबुलेंस ढाबे तक कैसे पहुंची, इसलिए जांच चल रही है।

SP यमुना प्रसाद ने बताया कि CO हैदरगढ़ के नेतृत्व में पुलिस की जो टीम पंजाब गई थी, उसे फर्जी कागजात के आधार पर रजिस्टर्ड एंबुलेंस की जांच करके अपने कब्जे में लेना था। उसे जानकारी मिली की एक एंबुलेंस लावारिस हालत में खड़ी है। जानकारी मिलते ही उसे पुलिस ने अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। जांच में अगर वो एंबुलेंस वही निकलती है, जिसे मुख्तार अंसारी के द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है तो उसे कब्जे में लेकर आगे की जांच शुरू की जाएगी।

इसी एम्बुलेंस से मुख्तार मोहाली की कोर्ट में पेश हुआ था।

इसी एम्बुलेंस से मुख्तार मोहाली की कोर्ट में पेश हुआ था।

जांच में फर्जी मिले थे एंबुलेंस के दस्तावेज

दरअसल, बीते बुधवार को मुख्तार अंसारी को एक यूपी के बाराबंकी नंबर (UP 41 AT 7171) की एंबुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेश किया गया था। बाराबंकी परिवहन विभाग व स्वास्थ्य विभाग द्वारा दस्तावेजों की पड़ताल की गई। इसमें पाया गया कि परिवहन विभाग में मऊ स्थित श्याम संजीवनी हॉस्पिटल का लेटर और डॉक्टर अलका राय का वोटर कार्ड लगाया गया था। लेकिन, रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट व मकान का पता फर्जी पाया गया। एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन डॉक्टर अलका राय के नाम दर्ज है, इसलिए बाराबंकी के ARTO ने उनके खिलाफ नामजद केस दर्ज कराया।

यह केस नगर कोतवाली में IPC की धारा 419, 420, 467, 468 और 471 की धाराओं में दर्ज हुआ है। पुलिस की एक टीम ने मऊ में करीब साढ़े तीन घंटे डा. अलका राय से पूछताछ की। सूत्रों के मुताबिक डा. अल्का राय की गिरफ्तारी भी हो सकती है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular