Home लखनऊ Lucknow news - किसानों के प्रदर्शन पर सियासत जारी: सपा अध्यक्ष अखिलेश...

Lucknow news – किसानों के प्रदर्शन पर सियासत जारी: सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का 3 दिन में PM मोदी पर 4 बड़े आरोप; बोले- जमीन हड़पने का षडयंत्र समझते हैं किसान

रविवार को अखिलेश ने कहा था कि किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है। -फाइल फोटो।

किसानों के हक में हमेशा संघर्ष करने की बात कही, बोले- भाजपा अब खत्म

केंद्र के कृषि बिलों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के आंदोलन का मंगलवार को छठा दिन है। इस आंदोलन को लेकर सत्ता और विपक्षी पार्टियों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीते तीन दिनों में चार बार सोशल मीडिया के जरिए अपनी आवाज किसानों के हक में बुलंद की और मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। मंगलवार को उन्होंने केंद्र सरकार पर कृषि बिलों की आड़ में जमीन हड़पने का आरोप लगाया।

किसानों के हक में हमेशा संघर्षरत

अखिलेश यादव ने कहा कि आय दोगुना करने का जुमला देकर कृषि कानून की आड़ में किसानों की जमीन हड़पने का षडयंत्र हो रहा है। इसे हम खेती-किसानी करने वाले अच्छे से समझते हैं। मैं अपने किसानों के साथ हमेशा की तरह संघर्षरत हूं। ताकि MSP, मंडी और कृषि की सुरक्षा करने वाली संरचना बची-बनी रहे। उन्होंने दावा किया कि अब भाजपा खत्म है।

आय दोगुनी करने का जुमला देकर कृषि क़ानून की आड़ में किसानों की ज़मीन हड़पने का जो षडयंत्र है वो हम खेती-किसानी करनेवाले अच्छे से समझते है. हम अपने किसान भाइयों के साथ हमेशा की तरह संघर्षरत हैं, जिससे एमएसपी, मंडी व कृषि की सुरक्षा करनेवाली संरचना बची-बनी रहे.

भाजपा अब ख़त्म!

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) December 1, 2020

मेहनतकश मुफलिसी में, पैसों वालों की चकाचक छन रही

इससे पहले सोमवार को अखिलेश यादव ने काव्य पंक्तियों के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिए बगैर उनके बनारस दौरे पर भी तंज कसा था। कहा था कि इधर किसानों की जिंदगी पर बन रही है, उधर देवों की दिवाली मन रही है। दिल बहुत छोटा है। इस अनुपात में तो नाप जिसके सीने की 56 रही है, वह मेहनतकश मुफलिसी में है। लेकिन पैसों वालों की चकाचक छन रही है। उधर, हलधर, इधर बंदूक वाले दीपक आंधी लड़ाई ठन रही है।

इधर कृषकी जिंदगी पर बन रही हैउधर देवों की दिवाली मन रही हैदिल बहुत छोटा है इसअनुपात में तोनाप जिसके सीने की छप्पन रही हैमुफलिसी में है मेहनतकश यहां परपैसे वालों की चकाचक छन रही हैहैं उधर हलधर, इधर बन्दूक वालेदीपक आंधी में लड़ाई ठन रही है— उदय प्रताप सिंह

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) November 30, 2020

ढोंग का उत्सव जारी है

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को यह भी कहा था कि भारत की थाली भरने वालों की रात काली कर दी गई है। उन किसानों से मिलने का वक्त नहीं है। लेकिन ढोंग का उत्सव जारी है।

रातें कर दीं हैं उनकी काली, जो भरते सबकी थाली हैंउनसे मिलने का वक़्त नहीं, पर ढोंग के उत्सव जारी हैं

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) November 30, 2020

किसान आतंकवादी तो भाजपाई उनका उगाया न खाएं

इससे पहले रविवार को अखिलेश ने कहा था कि किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है। ये अमीरों की पक्षधर भाजपा का खेती-खेत, छोटा-बड़ा व्यापार, दुकानदारी, सड़क, परिवहन सब कुछ, बड़े लोगों को गिरवी रखने का षड्यंत्र है। अगर भाजपा के अनुसार किसान आतंकवादी हैं तो भाजपाई उनका उगाया न खाने की कसम खाएं।

किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है. ये अमीरों की पक्षधर भाजपा का खेती-खेत, छोटा-बड़ा व्यापार, दुकानदारी, सड़क, परिवहन सब कुछ, बड़े लोगों को गिरवी रखने का षड्यंत्र है.

अगर भाजपा के अनुसार किसान आतंकवादी हैं तो भाजपाई उनका उगाया न खाने की कसम खाएं. pic.twitter.com/BAD6NSiBYZ

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) November 29, 2020

Input – Bhaskar.com

Most Popular