HomeलखनऊLucknow news- कुरान पर टिप्पणी से गुस्साए लोगों ने वसीम रिजवी का...

Lucknow news- कुरान पर टिप्पणी से गुस्साए लोगों ने वसीम रिजवी का फूंका पुतला

वसीम रिजवी द्वारा कुरान के प्रति की गई टिप्पणी से खैराबाद के मुस्लिम समाज के लोग आक्रोशित हो गए। अपना गुस्सा जाहिर करते हुए रिजीव का पुतला फुंका और कार्रवाई की मांग की है। खैराबाद में दरगाह बड़े मखदूम साहब रहमतुल्लाह अलैह के करीब वसीम रिजवी का पुतला रविवार को फूंका गया। कुछ दिन पहले वसीम रिजवी का पवित्र कुरान के बारे में आपत्तिजनक बयान दिए जाने के कारण समुदाय विशेष में काफी आक्रोश व्याप्त है। आक्रोशित लोगों ने पुतला जलाते हुए वसीम के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आक्रोशित लोगों ने सरकार से वसीम रिजवी के खिलाफ  सख्त से सख्त कारवाई की मांग की है।

इस मौके  पर फ हीम, सामजसेवी सय्यद मोईन अलवी, अहमद, मोहम्मद  समर, गुलफाम अहमद, फ रमान खान, मोहम्मद दानिश, आकाश, नेहाल, दानिश, शबी गौरी, शीबू, सतीश आदि मौजूद रहे। वहीं, शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी के कुरान को लेकर दिये गए बयान और सुप्रीम कोर्ट में कुरान की 26 आयतों को हटाने के लिए दाखिल की गई रिट को लेकर महमूदाबाद नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन मोहम्मद अहमद ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर वसीम रिजवी पर केस दर्ज कर सजा दिलाने की मांग की है।

पूर्व चेयरमैन मोहम्मद अहमद ने पीएम को लिखे गए पत्र में कहा कि, वसीम रिजवी ने कुरान ए पाक पर की गई टिप्पणी को लेकर हिन्दुस्तान ही नहीं पूरी दुनिया का मुस्लिम समाज में गहरा आक्रोश है। अल्लाह ने कुरान को मोहम्मद रसूल साहब पर नाजिल फरमाया था। कुरान में हर चीज का इल्म है। कुरान पाक तब से आज तक वैसी ही है और कयामत तक वैसी ही रहेगा। कुरान पाक का एक भी शब्द बदलना नामुमकिन है। उन्होंने वसीम रिजवी को सजा दिलाने की मांग की है।

वसीम रिजवी के खिलाफ दिखा गुस्सा, सौंपा ज्ञापन

रायबरेली में भी वसीम रिजवी के विवादित बयान को लेकर समुदाय विशेष में नाराजगी रही। पुतला फूंकने की दिनभर चर्चा होती रही, लेकिन पुलिस की सख्ती और चौकसी से पुतला नहीं फूंका जा सका। रविवार को देर शाम अमेठी जिले के जायस कस्बे में कुछ सड़क पर उतरे और राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन जायस कोतवाली पुलिस को सौंपा। इस दौरान वसीम रिजवी को गिरफ्तार किए जाने और उनके खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की गई। जायस कोतवाली प्रभारी भरत उपाध्याय ने बताया कि कहीं कोई पुतला नहीं फूंका गया। हाजी इशरत हुसैन, शकील आदि ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन दिया है।

Most Popular