HomeलखनऊLucknow news - पश्चिम बंगाल में चिटफंड घोटाला: ग्लोबल इंफ्रा एनर्जी कंपनी...

Lucknow news – पश्चिम बंगाल में चिटफंड घोटाला: ग्लोबल इंफ्रा एनर्जी कंपनी के डायरेक्टर साकेत बनर्जी और उनकी पत्नी लखनऊ से गिरफ्तार, लंबे समय से चल रहे थे फरार

2016 में कंपनी के द्वारा किए जा रहे फर्जीवाड़े की जानकारी लोगों को हुई तो झारखंड के कई जिलों में इसकी थाने पर शिकायत की गई थी। 2017 में इस मामले की जांच हाईकोर्ट झारखंड के आदेश पर CBI को सौंप दी गई थी। - Dainik Bhaskar

2016 में कंपनी के द्वारा किए जा रहे फर्जीवाड़े की जानकारी लोगों को हुई तो झारखंड के कई जिलों में इसकी थाने पर शिकायत की गई थी। 2017 में इस मामले की जांच हाईकोर्ट झारखंड के आदेश पर CBI को सौंप दी गई थी।

झारखंड हाईकोर्ट के आदेश पर सितंबर 2017 में दर्ज हुआ था केस, इसके बाद से CBI जांच कर रही थीCBI ने दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के बाद भेजा जेल; करोड़ों रुपए का था घोटाला

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) ने पश्चिम बंगाल में चिटफंड कंपनी घोटाले के आरोपी साकेत बनर्जी व उनकी पत्नी कमलजीत बनर्जी को लखनऊ के गोमती नगर से गिरफ्तार किया है। दोनों काफी दिनों से लखनऊ में रह रहे थे। 15 सितंबर 2017 को झारखंड हाईकोर्ट के आदेश पर CBI ने ग्लोबल इंफ्रा एनर्जी लिमिटेड कंपनी के डायरेक्टर साकेत बनर्जी पर केस दर्ज किया था। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को CBI कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

यह है पूरा मामला

पश्चिम बंगाल के आसनसोल स्थित ग्लोबल इंफ्रा एनर्जी लिमिटेड कंपनी पर पश्चिम बंगाल के अलावा झारखंड, बिहार समेत कई राज्यों में हजारों लोगों से ठगी करने का आरोप है। 2014 से शुरू किए गए इस फर्जीवाड़े में हजारों लोगों के रुपए कंपनी के डायरेक्टरों ने 2 गुना 3 गुना मुनाफा दिए जाने की स्कीम बता कर लगवाया। 2016 में कंपनी के द्वारा किए जा रहे फर्जीवाड़े की जानकारी लोगों को हुई तो झारखंड के कई जिलों में इसकी थाने पर शिकायत की गई थी। 2017 में इस मामले की जांच हाईकोर्ट झारखंड के आदेश पर CBI को सौंप दी गई थी।

CBI ने झारखंड उच्च न्यायालय के आदेश पर 15 सितंबर 2017 को चिटफंड कंपनी के डायरेक्टर्स के खिलाफ मामला दर्ज किया था। दोनों डायरेक्टर छिपने के लिए उत्तर प्रदेश लखनऊ स्थित गोमती नगर रह रहे थे। जांच में यह पाया गया कि दोनों आरोपियों ने आम लोगों के रुपए को निवेशों पर ज्यादा वापसी का लालच देकर कंपनी में लगवाया। दोनों डायरेक्टर ने विश्वास दिलाने के लिए लोगों को बताया कि RBI और ROC व SEBI में कंपनी रजिस्टर है और उसको ऐसा करने के लिए मंजूरी दी गई है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular