HomeलखनऊLucknow news - बाहुबली के करीबियों पर शिकंजा: BSP विधायक मुख्तार अंसारी...

Lucknow news – बाहुबली के करीबियों पर शिकंजा: BSP विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी को हिरासत में लेकर कर रही पूछताछ, पहचान छुपाने के लिए शुरू कर दी थी वकालत

यूपी के बाराबंकी जिले में पुलिस ने बाहुबली बसपा विधायक मुख्तार अंसारी के एक करीबी को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि वह अपनी पहचान छुपाकर वकालत के पेशे में लग गया था। पुलिस अब उससे पूछताछ कर रही है। फाइल फोटो मुख्तार अंसारी - Dainik Bhaskar

यूपी के बाराबंकी जिले में पुलिस ने बाहुबली बसपा विधायक मुख्तार अंसारी के एक करीबी को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि वह अपनी पहचान छुपाकर वकालत के पेशे में लग गया था। पुलिस अब उससे पूछताछ कर रही है। फाइल फोटो मुख्तार अंसारी

पूर्वांचल के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की दो साल बाद घर वापसी हुई है। यूपी पुलिस बुधवार सुबह मुख्तार अंसारी को बांदा जेल लेकर पहुंची। मुख्तार की घर वापसी होने पर उसके शार्प शूटर बांदा में अपना ठिकाना बना सकते हैं। इस इनपुट्स के साथ पुलिस और खूफिया विभाग बांदा और आसपास के जिलों में अलर्ट मोड पर हैं। इस बीच पुलिस ने बाराबंकी में मुख्तार के एक करीबी को हिरासत में लिया है जो अपनी पहचान छुपाने के लिए वकालत के पेशे में घुस गया था। शोएब किदवई उर्फ बाबी नगर कोतवाली पुलिस ने पूछतांछ के लिए हिरासत में लिया है।

जानकारी के अनुसार, बाहुबली मुख्तार अंसारी के करीबी और उनके शार्पशूटर माने जाने वाले को पुलिस ने एक बार फिर हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि वह बाराबंकी कोर्ट में वकालत के पेशे में पहुंच गया था। वकील के वेश में पुलिस मुख्तार के करीबी को लेकर थाने पहुंची।

पुलिस से बचने के लिए वकालत के पेशे में घुसा

मुख्तार अन्सारी की तरह 0786 नम्बर की गाड़ियों से चलता था। पुलिस सूत्रों के अनुसार, हिस्ट्रीशीटर मुख्तार अंसारी के करीबी के खिलाफ ​​​बाराबंकी लखनऊ में दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं। पुलिस से बचने के इरादे से बाराबंकी कोर्ट में वकालत के पेशे में लग गया था। मुख्तार अन्सारी का करीबी शोएब किदवई उर्फ बाबी कुछ वर्षों पूर्व राजधानी लखनऊ में राजभवन के सामने हुए जेलर हत्याकांड का भी मुख्य आरोपी है।

बांदा जेल से रिहा हुए कैदियों का मुख्तार कनेक्शन खंगाल रही पुलिस

सूत्रों के अनुसार, खुफिया विभाग और पुलिस उन कैदियों का बही खाता खंगाल रही है, जो एक हफ्ते के अंदर बांदा जेल से जमानत पर रिहा हुए और जो किसी भी मामले में जेल आएं है। बांदा पुलिस और खुफिया विभाग की रडार पर माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के शार्प शूटर है।

दो साल पहले जब मुख्तार अंसारी बांदा जेल में बंद था, तो उसके गुर्गे बांदा जेल के आसपास या फिर ग्रामीण क्षेत्रों में अपनी पहचान छिपाकर रहते रहे थे। मुख्तार को जेल से चुनाव जीतना और जेल में बैठकर पूरे गिरोह का संचालन करना बखूबी आता है। जेल में बंद होने के बाद भी उसके शूटर टच में रहते हैं। बांदा जेल प्रशासन ने ऐसे इंतजाम किए हैं कि जेल में बंद कैदी भी मुख्तार अंसारी से संपर्क नहीं कर पाएंगें। इसके साथ ही कोई भी बाहरी शख्स मुख्तार से नहीं मिल पाएगा।

खबरें और भी हैं…

Most Popular