HomeलखनऊLucknow news - बिकरु कांड में पुलिस का शिकंजा: विकास दुबे का...

Lucknow news – बिकरु कांड में पुलिस का शिकंजा: विकास दुबे का बहनोई लखनऊ से गिरफ्तार; नीलामी में खरीदी कार के दस्तावेजों की थी हेराफेरी

जुलाई 2020 में पुलिस की टीम ने विकास दुबे के भाई प्रदीप दुबे के लखनऊ स्थित घर से कार बरामद की थी। जांच में कार के दस्तावेज फर्जी पाए गए थे। - Dainik Bhaskar

जुलाई 2020 में पुलिस की टीम ने विकास दुबे के भाई प्रदीप दुबे के लखनऊ स्थित घर से कार बरामद की थी। जांच में कार के दस्तावेज फर्जी पाए गए थे।

जुलाई 2020 में विकास के भाई के घर से बरामद हुई थी कारआरोपी उन्नाव के अचलगंज का रहने वाला

बिकरु कांड के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे के बहनोई कृष्ण गोपाल दीक्षित को लखनऊ की कृष्णा नगर पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार किया है। वह उन्नाव के अचलगंज का रहने वाला है। बिकरु गांव में शूटआउट के बाद पुलिस की छापेमारी के दौरान विकास के भाई प्रदीप के घर से एक अंबेसडर कार बरामद हुई थी। कार के कागजात में फर्जीवाड़ा किए जाने के आरोप में कृष्ण गोपाल को गिरफ्तार किया गया है। वह बीते साल जुलाई माह से फरार चल रहा था।

जुलाई 2020 में बरामद हुई थी कार

साल 2020 में 4 जुलाई को विकास दुबे के भाई प्रदीप दुबे के लखनऊ स्थित घर से सरकारी अंबेसडर कार मिली थी। जिसे पुलिस ने कब्जे में लेकर जांच की तो कागजात में फर्जीवाड़ा पाया गया था। जिसके बाद मुकदमा दर्ज किया गया था। यह कार विशेष सचिव राज्य सम्पत्ति के नाम पर रजिस्टर है। कार नीलामी में खरीदी गई थी, जो अभी तक ट्रांसफर नहीं कराई गई थी। विवेचक राम प्रकाश शर्मा ने बताया कि गोपाल दीक्षित के द्वारा कार के फर्जी दस्तावेज तैयार किए गए थे।

15 दिन पहले UP STF ने गैंगस्टर विकास दुबे को फरारी में मदद करने वाले 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। इनके पास से सेमी ऑटोमैटिक राइफल समेत कई हथियार व नगदी बरामद हुए हैं। STF के हाथ विकास दुबे और प्रभात मिश्रा का मोबाइल फोन भी लगा था है।

गैंगस्टर विकास दुबे।- फाइल फोटो

गैंगस्टर विकास दुबे।- फाइल फोटो

क्या था बिकरु कांड?

कानपुर में चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरु गांव में दो जुलाई 2020 की रात दबिश पर गई पुलिस टीम पर गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी। इसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। घटना को अंजाम देने के बाद ही विकास दुबे रात में ही भागकर अपने सहयोगियों के पास जाकर छिप गया था। 9 जुलाई को विकास दुबे मध्य प्रदेश में उज्जैन स्थित महाकालेश्वर मंदिर से गिरफ्तार हुआ था। 10 जुलाई को पुलिस ने कानपुर के भौंती में उसका एनकाउंटर कर दिया था। भौंती में गाड़ी पलट जाने पर विकास ने भागने की कोशिश की थी और मुठभेड़ में मारा गया था। जबकि उसके 5 साथी मुठभेड़ में मारे गए और इस मामले में 36 लोग जेल में हैं।

खबरें और भी हैं…

Most Popular