Home लखनऊ Lucknow news - भाजपा ने यूपी की 10 राज्यसभा सीटों के लिए...

Lucknow news – भाजपा ने यूपी की 10 राज्यसभा सीटों के लिए 8 कैंडिडेट का एलान किया, गांधी परिवार के करीबी रहे अमेठी से संजय सिंह का नाम लिस्ट से गायब

  • बीजेपी ने उत्तराखंड की एक सीट पर भी उम्मीदवार की घोषणा की पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष रहे नरेश बंसल राज्यसभा सीट के लिये प्रत्याशी होंगे।
  • समाजवादी पार्टी ने डॉ रामगोपाल यादव और बसपा ने रामजी गौतम को मैदान में उतारा है।

लखनऊ. यूपी की 10 राज्यसभा सीटों पर होने वाले चुनावों के लिए भाजपा ने अपने 8 कैंडिडेट की लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पूरी के अलावा यूपी के एससी एसटी आयोग के अध्यक्ष बृजलाल का नाम भी शामिल हैं। वहीं अमेठी से सांसद रहे और गांधी परिवार के कभी करीबी रहे संजय सिंह का नाम लिस्ट से गायब है। बीते दिनों वह भाजपा में शामिल हुए थे। बताया जाता है कि उन्हें आश्वासन मिला था कि वह भाजपा के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे।

किसे मिला मौका

9 नवंबर को होने वाले चुनाव के लिए यूपी से हरदीप सिंह पूरी, नीरज शेखर, अरुण सिंह, हरिद्वार दुबे, बृजलाल, गीता शाक्य, बीएल वर्मा, और सीमा द्विवेदी को कैंडिडेट बनाया गया है। हरदीप सिंह पूरी लगातार दूसरी बार यूपी से राज्यसभा जा रहे हैं, जबकि मायावती के करीबी रहे बृजलाल को भी मौका दिया गया है।

ब्राह्मणवाद के चलते तो नहीं कटा संजय सिंह का नाम

यूपी में इस समय जातीय राजनीति हावी है। सीएम योगी पर ब्राह्मणों के उत्पीडन का आरोप लगातार लग रहा है। साथ ही 8 कैंडिडेट की लिस्ट में ठाकुर, ब्राह्मण, दलित और पिछड़ी जाति को मौका देकर संतुलन बनाने की कोशिश की गई है। ऐसे में जानकार मानते है कि क्षत्रियों को लेकर मचे घमासान के कारण संजय सिंह का नाम इस लिस्ट से दूर रखा गया है।

बसपा को वाक्ओवर देने के मूड में भाजपा ?

उत्तर प्रदेश के विधायकों की संख्या के आधार पर भाजपा की आठ और सपा की एक राज्यसभा सीट पर जीत तय है। बसपा और कांग्रेस अपने विधायकों की संख्या के आधार पर उम्मीदवारों को राज्यसभा भेजने की स्थिति में नहीं है, लेकिन बसपा प्रमुख मायावती ने अपना प्रत्याशी उतार दिया है। बसपा के राष्ट्रीय कोआर्डिनेटर और बिहार के प्रभारी रामजी गौतम ने सोमवार को राज्यसभा के लिए अपना नामांकन दाखिल किया है। अब सवाल उठने लगे है कि जब बसपा के पास पर्याप्त मत नहीं है तो क्या उसे भाजपा से समर्थन मिलेगा या भाजपा से कुछ लोग विद्रोह करेंगे। बहरहाल, यह 9 नवंबर को ही पता चलेगा।

राजनीतिक पार्टियों की संख्या और राज्यसभा में वोट

राज्यसभा चुनाव में एक विधायक एक वोट होता है। मौजूदा समय में विधानसभा में सदस्यों की संख्या 396 है। इनमें बीजेपी के 304, एसपी के 48, बीएसपी के 18, अपना दल (सोनेलाल) के नौ, कांग्रेस के सात, सुभासपा के चार, निर्दलीय तीन, रालोद और निर्बल इंडियन शोषित हमारा आम दल का एक-एक सदस्य है। इसके साथ ही एक निर्वाचित सदस्य है। निर्वाचित सदस्य को राज्यसभा चुनाव में वोट का अधिकार नहीं होता। इस हिसाब से 395 सदस्यों के राज्यसभा चुनाव में वोट करने की संभावना है। राज्यसभा चुनावी गणित के हिसाब से 395 सदस्यों के आधार पर एक सीट के लिए 37 विधायकों की जरूरत होगी।

10 सीटों पर होना है चुनाव

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की 10 सीटों पर 9 नवंबर को चुनाव होना है। वर्तमान में इन 10 सीटों में से तीन पर भाजपा का कब्जा है। 20 अक्टूबर से नामांकन प्रक्रिया शुरू हुई है, जो 27 अक्टूबर तक चलेगी।

Input – Bhaskar.com

Most Popular