HomeलखनऊLucknow news- यूपी : 25000 रेमडेसिविर इंजेक्शन की दूसरी खेप मिली, दो-तीन...

Lucknow news- यूपी : 25000 रेमडेसिविर इंजेक्शन की दूसरी खेप मिली, दो-तीन दिन में पर्याप्त उपलब्धता की उम्मीद में सरकार

विस्तार

प्रदेश को कोविड संक्रमित मरीजों के इलाज में कारगर मानी जा रही रेमडेसिविर इंजेक्शन की 25000 इंजेक्शन की दूसरी खेप भी सोमवार को मिल गई। इसके पहले भी 25 हजार इंजेक्शन मिल चुका है। सरकार को उम्मीद है कि अगले दो-तीन दिनों में इंजेक्शन की पर्याप्त उपलब्धता हो जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद आइसोलेशन में रहते हुए ऑक्सीजन व रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। 

सोमवार को टीम-11 के साथ बैठक में सीएम योगी की समीक्षा में बताया गया कि जुबिलियंट फार्मा, कैडिला, माइलिन और सिप्ला जैसी निर्माता कंपनियों को 2,75,000 रेमडेसिविर की डिमांड भेजी गई है। इसमें सर्वाधिक एक-एक लाख वायल की आपूर्ति कैडिला और सिप्ला द्वारा होगी। माइलिन को 25000 और जुबिलियंट को 50,000 वायल की आपूर्ति करनी है। सीएम के आदेश पर अपर मुख्य सचिव एमएसएमई नवनीत सहगल दवा निर्माता कम्पनियों से सीधे संपर्क में हैं। उन्होंने बताया कि यह आपूर्ति अगले दो से तीन दिनों के भीतर हो जाएगी।

सोमवार शाम तक जुबिलियंट फार्मा की ओर से करीब 25000 वायल की आपूर्ति कर दी गई है। सीएम योगी ने निर्देश दिए कि इनका वितरण पारदर्शितापूर्ण ढंग से किया जाए। सभी आपूर्तिकर्ताओं से संवाद स्थापित कर प्रदेश की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए मांग भेजी जाए।

रेमडेसिविर की कालाबाजारी बड़ा अपराध, रासुका के साथ संपति भी जब्त होगी

जीवनरक्षक दवाओं की बढ़ती मांग के बीच कालाबाजारी की खबरों को मुख्यमंत्री ने बेहद गम्भीरता से लिया है। योगी ने कहा है कि रेमडेसिविर जैसी जीवनरक्षक दवाओं की कालाबाजारी बड़ा अपराध है। इसमें संलिप्त व्यक्तियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट अथवा रासुका के अंतर्गत कठोरतम कार्रवाई की जाए। यही नहीं, ऐसे लोगों के बारे में समाज में व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को आश्वस्त करते हुए कहा है कि रेमडेसिविर सहित किसी भी प्रकार के जीवनरक्षक दवाओं की कोई कमी नहीं है। सभी जिलों में इनकी उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है।

होम आइसोलेशन के मरीजों से लगातार बनाये रखें संपर्क
मुख्यमंत्री ने होम आइसोलेशन में इलाजरत रोगियों से लागातर संपर्क बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा है कि होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों को न्यूनतम एक सप्ताह का मेडिकल किट उपलब्ध कराया जाए। इंटेग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर और सीएम हेल्पलाइन द्वारा मरीजों से हर दिन संवाद स्थापित किया जाए। यही नहीं, 108 एम्बुलेंस की आधी संख्या केवल कोविड के लिए डेडिकेटेड किया जाए। एम्बुलेंस का रिस्पॉन्स टाइम कम से कम हो, इसके लिए  विशेष प्रयास किए जाएं। सीएम ने इसकी जिम्मेदारों स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह को सौंपी है। 

बिना मास्क 10 हजार जुर्माना देने वालों की फोटो होगी सार्वजनिक
मुख्यमंत्री ने गृह विभाग को निर्देशित किया है कि पूरे प्रदेश में मास्क के अनिवार्य उपयोग को सख्ती से लागू कराया जाए। पहली बार बिना मास्क के पकड़े जाने पर 1,000 रुपये का जुर्माना तथा दूसरी बार बगैर मास्क पकड़े जाने पर 10,000 रुपये का जुर्माना लगाया जाए। 10,000 रुपये जुर्माना देने वालों की फोटो को सार्वजनिक करें। इससे लोगों में मास्क पहनने के प्रति जागरूकता बढ़ेगी।

रेमडेसिविर की कालाबाजारी बड़ा अपराध, रासुका के साथ संपति भी जब्त होगी

Most Popular