HomeलखनऊLucknow news - स्कूल पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री: बिना बच्चों के खुले...

Lucknow news – स्कूल पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री: बिना बच्चों के खुले स्कूल,निरक्षण करने पहुंचे मंत्री सतीश कुमार द्विवेदी,शिक्षकों को दी नसीहत

बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी स्कूल खुलने के पहले दिन निरक्षण करते हुए - Dainik Bhaskar

बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी स्कूल खुलने के पहले दिन निरक्षण करते हुए

बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने गुरुवार को स्कूलों का रुख किया।लखनऊ शहर के प्राथमिक विद्यालय अलीगंज, प्राथमिक विद्यालय चांदन और प्राथमिक विद्यालय नरही का निरीक्षण किया।इस दौरान शिक्षकों से मुखातिब हुए मंत्री ने स्कूलों के रखरखाव से लेकर बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई को लेकर भी नसीहत देते नज़र आएं।

शिक्षकों व विभागीय अधिकारियों के साथ बेसिक शिक्षा मंत्री

शिक्षकों व विभागीय अधिकारियों के साथ बेसिक शिक्षा मंत्री

हालात सामान्य होने पर ही बच्चों को स्कूल आने की दी जाएगी अनुमति –

बेसिक मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा कि पहली जुलाई से स्कूल खुले हैं और अभी केवल शिक्षक आएंगे।कायाकल्प समेत अन्य गतिविधियों को पूरा करेंगे।ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन का कार्य भी बेहतर तरीके से किया जाएगा।इसके अलावा मिड डे मील का कन्वर्जन कास्ट बच्चों के अभिभावकों के खाते में भेजी जा रही है उसकी निगरानी करेंगे।स्कूलों के मरम्मत कार्यों और साफ- सफाई की देख रेख करेंगे ताकि जब भी बच्चों का स्कूल आना हो तो स्कूल पूरी तरह तैयार मिले।बच्चों के स्कूल आने के सवाल पर मंत्री ने कहां कि जब भी माहौल बेहतर होगा तभी बच्चों को स्कूल बुलाया जाएगा।मंत्री के निरक्षण के दौरान लखनऊ के एडी बेसिक पीएन सिंह भी मौजूद रहे।

स्कूल खुलने के पहले दिन समय से विद्यालय पहुंचे शिक्षक

स्कूल खुलने के पहले दिन समय से विद्यालय पहुंचे शिक्षक

गुरुवार से खुले स्कूल,सुबह से ही दिखी गुरुजी की आमद –

इस साल के सत्र की शुरुआत बिना बच्चों की हुई।स्कूलों ने शिक्षक तो पहुंचे पर बच्चे न होने के कारण उन्हें कक्षा लेने की जल्दी नही दिखी।कई जगहों पर पहले ही दिन साफ सफाई पर जोर रहा।शिक्षक खुद खड़े होकर बदहाल व्यवस्था को दुरुस्त कराते दिखे।हालांकि पहले दिन उन्हें फुरसत बिना बच्चों के भी काम से फुरसत मिलती न दिखी।

तीसरी लहर के खतरे से स्कूल जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे कुछ शिक्षक –

इधर सरकार ने 1 जुलाई से शिक्षकों के लिए स्कूल खोलने के आदेश जारी तो कर दिए, मगर तीसरी लहर को लेकर हो रही चर्चाओं से शिक्षको में दहशत का माहौल है।दबी जुबान में कई शिक्षकों का कहना था कि बिना बच्चों के स्कूल में शिक्षकों का क्या काम? हम शिक्षक हैं, बाबू नहीं।

एक नज़र आकंड़ों पर –

यूपी के परिषदीय स्कूल में बच्चो की संख्या – 1.6 करोड़ बच्चें,

परिषदीय स्कूल (बेसिक शिक्षा विभाग) – 1 लाख 59 हजार स्कूल पूरे प्रदेश में,

कुल शिक्षकों की संख्या – 5 लाख

खबरें और भी हैं…

Most Popular