HomeलखनऊLucknow news - UP में कोरोना: अस्पताल के बाहर कार में दो...

Lucknow news – UP में कोरोना: अस्पताल के बाहर कार में दो दिन बुजुर्ग ने इलाज का किया इंतजार; बेड मिला तो डॉक्टर बोले- लाने में देर कर दी, पूर्व मंत्री के बेटे की भी मौत

उत्तर प्रदेश में कोरोना का संक्रमण कहर बरपा रहा है। राजधानी लखनऊ की सबसे ज्यादा खराब है। यहां एक 60 साल के कोरोना मरीज अलीगंज निवासी सुशील कुमार श्रीवास्तव को लेकर उनके परिजन कार में ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ इधर-उधर अस्पतालों के चक्कर काटते रहे, लेकिन दो दिन तक किसी भी अस्पताल में बेड नहीं मिला। काफी मशक्कत के बाद गुरुवार रात बुजुर्ग को विवेकानंद अस्पताल में भर्ती किया गया, लेकिन डॉक्टरों ने कहा कि लाने में बहुत देरी हुई। शुक्रवार सुबह बुजुर्ग की मौत हो गई।

परिजनों का आरोप है कि अस्पताल वालों ने यह कहकर भर्ती करने से मना कर दिया था कि पहले कोविड की रिपोर्ट लेकर आओ। सरकारी आदेश है कि जांच के नाम पर सिर्फ 700 रुपए लिया जा सकता है। मगर 15 सौ रुपए लिए गए। बावजूद इसके भर्ती करने में देरी गई है। मरीज को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। इसलिए परिजन तालकटोरा से पंद्रह हजार रुपए में प्राइवेट ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदकर लाए थे। मृतक शुगर और बीपी से पीड़ित थे।

वहीं, पूर्व मंत्री भगवती सिंह की कोरोना से मौत के 12 दिन बाद उनके बेटे राकेश कुमार सिंह की भी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि इलाज में देरी होने की वजह से राके​​​​​​​श सिंह की मौत हुई है। लोहिया अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था। वहीं, उनके भाई भी ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं।

कार में ऑक्सीजन सपोर्ट पर बुजुर्ग सुशील की यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल है।

कार में ऑक्सीजन सपोर्ट पर बुजुर्ग सुशील की यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल है।

शव की जांच में संक्रमित मिले थे पूर्व मंत्रीपूर्व मंत्री भगवती सिंह का 4 अप्रैल को निधन हुआ था। उनका शव जब KGMU को दान किया गया तो जांच में कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया था। पूर्व मंत्री के संपर्क में आने से उनके दोनों बेटे राकेश कुमार और हृदयेश कुमार सिंह भी कोरोना संक्रमित हुए। शुक्रवार सुबह राकेश का निधन हो गया। वे 67 साल के थे। उनके दो बेटे और दो बेटियां हैं। रिवर बैंक कॉलोनी स्थित आवास पर उनका निधन हुआ है।

कंट्रोल रूम पर 60% निस्तारित नहीं पा रही हैं समस्या

लखनऊ में कोविड-19 कंट्रोल रूम पर कॉल करके लोग खुद को बचाने की मिन्नतें कर रहे हैं। कोई कह रहा है कि एंबुलेंस दिलवा दीजिए तो कोई भर्ती करवाने की डिमांड कर रहा है। किसी का आरोप है कि ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिल रहा है। लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। प्रतिदिन ऐसे करीब 2000 से ज्यादा कॉल केवल लखनऊ के लिए कोविड-19 सेंटर व नगर निगम और पुलिस हेल्पलाइन पर की जा रही हैं। लेकिन करीब 60% से ज्यादा लोगों की मदद नहीं हो पा रही है। स्थिति भयावह हो गई।

14 अप्रैल को उत्तर प्रदेश में 20,510 नए केस मिले थे जबकि 67 लोगों की जान गई थी।

14 अप्रैल को उत्तर प्रदेश में 20,510 नए केस मिले थे जबकि 67 लोगों की जान गई थी।

कोरोना अपडेट्स…

लखनऊ में बढ़ते कोविड-19 के मामले को देखते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के निर्देश पर DRDO की एक विशेष विमान से टीम लखनऊ पहुंच रही है। वह दो स्थानों पर 500 से 600 बेड क्षमता वाले को भी डॉक्टर को तैयार करेगी।लखनऊ में कोरोना का संक्रमण बेकाबू है। इसके चलते शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने शाही आसफी मस्जिद में होने वाली शुक्रवार की नमाज अगले आदेशों तक के लिए स्थगित करने की घोषणा कर दी है।बलरामपुर में एक साथ 200 कोरोना मरीज मिलने पर DM श्रुति ने रविवार व बुधवार को सामूहिक बंदी की घोषणा की है। हालांकि दवा, दूध डेयरी, सब्जी और फल की दुकानों को बंदी से बाहर रखा गया है। जिले में एक्टिव केस की संख्या 531 पहुंच गई है। अब तक 39 लोगों की मौत हो चुकी है।​​​​​​​एटा में DM डॉक्टर विभा चहल ने संक्रमण को देखते हुए कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर 05742234320, 234327 और CMO कंट्रोल रूम नंबर 05742233174 जारी किए हैं। उन्होंने लोगों से अपील की कि जारी किए गए इन नंबरों पर जनसामान्य द्वारा कोविड-19 के संबंध में किसी भी प्रकार की सूचना, सुझाव, शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।औरैया में CO अजीतमल प्रदीप कुमार संक्रमित मिले हैं। इससे पहले यहां ASP शिष्यपाल सिंह भी कोरोना पॉजिटिव मिले थे। उनकी रिपोर्ट दो दिन पहले पॉजिटिव आई थी। दोनों अफसर होम आइसोलेशन में है। गुरुवार को एक दिन में 128 नए केस मिले थे। अब तक यहां 4,319 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें से 3643 ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या 625 है। जबकि 51 की मौत हो चुकी है।यह फोटो मुरादाबाद में सब्जी मंडी की है। यहां न तो लोग मास्क लगाए नजर आए न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया।

यह फोटो मुरादाबाद में सब्जी मंडी की है। यहां न तो लोग मास्क लगाए नजर आए न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा गया।

खबरें और भी हैं…

Most Popular