उत्तर प्रदेश और बिहार के साथ-साथ गांव का अदला बदली किया जाएगा.उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के 7 गांव बगहा के होंगे. इसके साथ ही साथ साथ गांव बगहा के साथ गांव 7 उत्तर प्रदेश कहलाएंगे.इसके लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भी भेजा गया है. केंद्र सरकार की तरफ से सहमति मिलते हैं दोनों राज्यों के गांवों का अदला-बदली कर दिया जाएगा.

तिरहुत प्रमंडल के आयुक्त ने इसको लेकर डीएम कुंदन कुमार को पत्र भेज कर यूपी की सीमा से सटे बिहार के सात गांवों का प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया है. आयुक्त ने एक पत्र लिखा है और कहा है की गंडक पार के पिपरासी प्रखंड के पिपरासी प्रखंड का बैरी स्थान, मंझरिया, मझरिया खास, श्रीपतनगर, नैनहा, भैसही व कतकी गांव में जाने के लिए प्रशासन सहित ग्रामीणों को यूपी होकर आना-जाना पड़ता है.इन गावों के लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

ठीक इसी तरह की परेशानी यूपी के कुशीनगर जिले के मरछहवा, नरसिंहपुर, शिवपुर, बालगोविंद, बसंतपुर, हरिहरपुर व नरैनापुर के लोगों को होती है.इन दोनों गांवों के लोगों को अपने कामों के लिए 25 किलोमीटर अधिक दूरी तय करना पड़ता है. अगर इन गांव का अगला बदली हो जाता है तो इन गांव में विकास तेजी से होगा साथ ही साथ लोगों की परेशानियां भी दूर हो जाएगी.

इन गांवों की अदला बदली होने से भूमि विवाद खत्म हो जाएगा इसके साथ ही साथ सीमा विवाद भी खत्म हो जाएगा. साथ ही साथ किसानों को भी अपने खेती करने में काफी लाभ मिलेगा. जब सिंह गांव की अदला-बदली का खबर आया है तब से किसानों के साथ-साथ वहां के लोगों में खुशी की लहर है. जल्दी केंद्र सरकार इस प्रस्ताव पर मुहर लगा देगी जिसके बाद उत्तर प्रदेश और बिहार के इन गांवों का अगला बदली कर दिया जाएगा.