अब लखनऊ में ऐसी सड़कों का निर्माण होगा जो 40 साल तक नहीं टूटेगी. इन सड़कों में 40 साल तक किसी भी तरह का गड्ढा नहीं होगा. लखनऊ विकास प्राधिकरण अपनी योजनाओं में आने वाले समय में ऐसी ही सड़कों का निर्माण करेगा. इन सड़कों का समय समय पर रखरखाव का जरूरत नहीं पड़ेगा और ना ही इस में समय-समय पर मरम्मत की जरूरत पड़ेगी.

ऐसी सड़कें लविप्रा ने ट्रांसपोर्ट नगर योजना में प्रयोग के आधार पर बनाई हैं, जो स्थानीय ट्रांसपोर्टर को पसंद आ रही है. यह सभी सड़कें 40 से 45 साल तक चलेगी और इसमें किसी भी तरह का गड्ढा नहीं होगा. लविप्रा ऐसी सड़कों के निर्माण में सेंट्रल रोड रिसर्च इंस्टीट्यूट की मदद ली है. इन सभी सड़कों की गुणवत्ता भी मापी जा चुकी है.

लखनऊ विकास प्राधिकरण के मुख्य अभियंता इंदू शेखर सिंह ने बताया कि इन सड़कों के बनने से मरम्मत पर आने वाला खर्च बचेगा और साथ ही साथ यह सड़कें काफी ज्यादा टिकाऊ होंगी.

शुरू में रिजिड पेवमेंट की सड़कों पर लागत जरुर थोड़ी ज्यादा आती है लेकिन चार से पांच दशक चलने वाली सड़कों की मजबूती, गुणवत्ता पर कोई सवाल नहीं उठा सकता, क्योंकि सभी मानकों को देखकर सड़कों का निर्माण किया गया है.

आपको बता दें कि लखनऊ में कई जगह पर ऐसी सड़के देखने को मिलती है जिनका बुरा हाल है. यह सड़के टूटी फूटी है और बारिश के समय में यहां से वाहनों का गुजरना काफी ज्यादा मुश्किल हो जाता है.

मुख्य अभियंता ने जानकारी दिया कि इस तरह की सड़कों के निर्माण के लिए पहले गुणवत्ता की जांच की जाती है. इसके जांच के लिए प्राधिकरण की पूरी टीम काम करती है. आने वाले समय में यह सडके टूटेगी नहीं और साथ ही साथ इनके टूटने फूटने का डर बहुत कम रहेगा.