Home लखनऊ सीएम योगी बोले- 5 सदी के बाद राम भक्तों और संतों का...

सीएम योगी बोले- 5 सदी के बाद राम भक्तों और संतों का सपना हुआ सच, अयोध्या को बनाएंगे वैदिक सिटी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में कहा कि 5 सदी के बाद प्रभु राम के भक्तों और संतों का सपना सच हो रहा है। इसके पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा है। हम सिर्फ मंदिर का ही निर्माण नहीं कर रहे हैं, रामराज्य की परिकल्पना के अनुसार विकास कार्य भी कर रहे हैं। प्रत्येक गरीब को घर, शौचालय कनेक्शन और पांच लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज की व्यवस्था की है। 80 करोड़ लोगों को खाद्यान्न दे रहे हैं। कार्डधारक कहीं से भी खाद्यान्न ले सकता है। यह सुविधा भी दे दी गई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से दीपोत्सव को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाई जा रही है। अंतरराष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट बना रहे हैं। फिजी, कोरिया, थाईलैंड, जापान और नेपाल समेत पूरी दुनिया से लोग यहां सीधे आ सकेंगे। अगले साल हम 7,51,000 जलाएंगे। अयोध्या में 5 लाख लोगों के एक साथ घाट पर स्नान करने की व्यवस्था की है, जो प्रभु राम और अयोध्या के प्रति हमारा भाव है, वही जनता के प्रति भी है। इसलिए भारत को दुनिया की ताकत बनने से कोई नहीं रोक सकता। आज दुनिया भारत की ताकत का एहसास भी कर रही है।

योगी ने कहा कि हम भाग्यशाली हैं, जो प्रभु राम के मंदिर निर्माण के साक्षी बन रहे हैं। पहले जब मैं अयोध्या में आता था तो एक ही बात होती थी कि विकास नहीं राम मंदिर चाहिए। आपने धैर्य का परिचय दिया और उसका परिणाम है कि आज राम मंदिर का निर्माण हो रहा है। राम के राज्य में किसी के साथ अन्याय नहीं होगा। इसलिए बिना किसी भेदभाव के विकास कार्य कर रहे हैं। शीघ्र ही राजश्री दशरथ मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास का लोकार्पण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। यहां विश्वस्तरीय इलाज की सुविधाएं होंगी। अयोध्या को हम वैदिक सिटी के रूप में विकसित करेंगे।

उन्होंने कहा कि अयोध्या वासियों ने राम भक्तों ने बहुत अन्याय सहा है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। देश-दुनिया आज अयोध्या से जुड़ने के लिए उत्सुक है। यहां हम निराश्रित महिलाओं और बच्चों के लिए सदन के निर्माण का काम भी आगे बढ़ाएंगे। भगवान राम से जुड़े हर स्थल को विश्व स्तरीय पहचान दिलाएंगे। उन्होंने अयोध्या के विकास में जल शक्ति विभाग और लोक निर्माण विभाग समेत सभी संबंधित विभागों के योगदान की सराहना की।

Most Popular