HomeगोरखपुरGorakhpur news- अजनबी चेहरे का दर्द देखकर हमदर्द बना 'विकास', दर-दर की...

Gorakhpur news- अजनबी चेहरे का दर्द देखकर हमदर्द बना ‘विकास’, दर-दर की ठोकर खा रहे दिव्यांग का सहारा बना पूरा परिवार

शायर नियाज कपिलवस्तुवी की पंक्तियां ‘सबके सुख दुख में जो होता शामिल नहीं, आदमी कहने के भी वो काबिल नहीं, अच्छे कामों से होता बड़ा आदमी, वो बड़े क्या कि जिनमें बड़ा दिल नहीं’ सिद्धार्थनगर के रोवापार गांव निवासी 12 वर्षीय विकास पर सटीक बैठती है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular