HomeगोरखपुरGorakhpur news- गोरखपुर हत्याकांड: छत से झांकने के दौरान व्यापारी को मारी...

Gorakhpur news- गोरखपुर हत्याकांड: छत से झांकने के दौरान व्यापारी को मारी थी गोली, मोबाइल से हत्या का राज खुलने की उम्मीद

विस्तार

गोरखपुर जिले के शाहपुर इलाके के भैयाजीपुरम कॉलोनी बशारतपुर में मोबाइल व्यापारी वेद प्रकाश को छत से झांकने के दौरान 18 फीट से अधिक दूरी से शूटरों ने गोली मारी है। निशाना इतना सटीक था कि एक ही गोली में व्यापारी की मौत हो गई। गोली आंख में लगी और गर्दन के रास्ते बाहर हो गई थी। जिस तरह से वारदात को अंजाम दिया गया है उससे एक बात तो साफ है कि यह काम शूटर का है और नियत हत्या की ही थी।

जिस वक्त घटना हुई गली में अंधेरा था। तार टूटने से बिजली गुल थी, शायद शूटर को इस बात की जानकारी भी थी। उधर, पुलिस ने दो अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पर्दाफाश के लिए पुलिस की चार अलग-अलग टीमें लगाई गई हैं।

जानकारी के मुताबिक, शाहपुर के खरैया पोखरा स्थित भोलाजीपुरम कॉलोनी में शुक्रवार की रात 10.30 बजे 30 वर्षीय व्यापारी वेद प्रकाश चौधरी की बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हेलमेट व मास्क लगाए गेट पर पहुंचे दो बदमाशों ने गेट खटखटाया। आवाज सुनकर पहली मंजिल की बालकनी से वेद प्रकाश के नीचे झांकते ही बदमाशों ने ऊपर गोली चला दी। आंख से घुसी गोली गर्दन से बाहर आई, जिस वजह से वेद प्रकाश की मौत हो गई।

 

पुलिस की टीम मोहल्ले में लगे सीसी कैमरे की फुटेज खंगाल रही है। वेद प्रकाश के पड़ोसी के घर लगा सीसी कैमरा का डीबीआर खराब था लिहाजा पुलिस को अभी कोई सुराग नहीं मिल पाया है। वेद प्रकाश के पिता कृष्ण स्वरूप पूर्वोत्तर रेलवे में नौकरी करते थे। मूलत: बस्ती के रहने वाले वेद प्रकाश की शादी पिछले साल दिसंबर में हुई थी। पुलिस सभी पहलुओं पर जांच कर रही हैं।

वही हत्यारों की तलाश में पुलिस की कई टीमें व क्राइम ब्रांच जांच में जुटी हुई है। शाहपुर पुलिस ने शुक्रवार की देर रात कृष्ण स्वरूप की तहरीर पर दो अज्ञात बदमाशों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सीओ गोरखनाथ रत्नेश सिंह ने बताया कि गोली 18 फीट से अधिक दूरी से मारी गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। अज्ञात पर केस दर्ज कर लिया गया है, जल्द पर्दाफाश कर लिया जाएगा।

 

मोबाइल से हत्या का राज खुलने की उम्मीद

व्यापारी वेद प्रकाश हत्याकांड का राज मोबाइल और सर्विलांस टीम के जरिये खोलने की कोशिश की जा रही है। पुलिस ने वेद प्रकाश के साथ ही अन्य करीबियों के मोबाइल कॉल डिटेल खंगालना शुरू कर दिया है। आस-पास के लोगों के मोबाइल की भी पुलिस पड़ताल कर रही है। वहीं दूसरी तरफ घटना के खुलासे के लिए सीओ कोतवाली के नेतृत्व में चार टीमें लगाई गई है।

वेद प्रकाश ने पिपराइच इलाके में दुकान खोली थी, वहां भी पुलिस ने पहुंच कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि कहीं वेद प्रकाश को किसी बात को लेकर कोई धमका तो नहीं रहा था। इसके अलावा कुछ और पहलुओं पर भी पुलिस जांच कर रही है।

ट्रक से टूट गया था बिजली का तार, जिस रास्ते आए उसी से भागे
शुक्रवार की रात खरैया पोखरा भैयाजी पुरम के उस गली की बिजली भी खराब थी जिस गली में वेद प्रकाश का परिवार रहता है। पता चला है कि ट्रक ने बिजली के पोल में ठोकर मार दिया था जिससे तार टूट गया था और मोहल्ले की बिजली गुल हो गई थी। बदमाशों को शायद इस बात की जानकारी थी इसीलिए वह अंधेरे में आए और गोली मारने के बाद अंधेरे का फायदा उठाकर ही फरार हो गए।

वेद प्रकाश का मकान आखिर में होने की वजह से रास्ता बंद है और जिस रास्ते से बदमाश आए थे उसी से वापस भागे हैं। पुलिस इस बात की भी जानकारी जुटा रही है कि कहीं कोई उन्हें बिजली गुल होने की जानकारी देकर फोन कर बुलाया तो नहीं था। गली के एक घर में सीसी टीवी कैमरा भी लगा है लेकिन कैमरा खराब होने से पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लगा है। अब पुलिस उस गली के बाहरी इलाके के सीसी टीवी फुटेज से भी बदमाशों का सुराग जुटा रही है।

 

चार महीने पहले शादी हुई थी पत्नी है गर्भवती

वेद प्रकाश की चार महीने पहले यानी दिसम्बर 2020 में शादी हुई थी। बताया जा रहा है कि पत्नी रेखा गर्भवती हैं। दो भाई और बहनों में छोटे वेद प्रकाश के बड़े भाई कोचिंग पढ़ाते हैं। बहन की शादी हो गई है, वह अपनी ससुराल में रहती है। पिता पूर्वोत्तर रेलवे से रिटायर्ड हैं। वेद प्रकाश पहले दवा का काम करते थे। पिपराइच इलाके में वह किसी मेडिकल स्टोर पर काम करते हुए दवा के बारे में जानकारी जुटा रहे थे। दवा में घाटा होने पर उन्होंने थोक मोबाइल पार्ट्स का काम भी शुरू कर दिया था। पुलिस की एक टीम मेडिकल स्टोर से भी हत्या का सुराग जुटाने में लगी है।

भाभी को कुछ दिन पहले ही हुआ है बेटा
वेद प्रकाश की भाभी को अभी कुछ दिन पहले ही बेटा हुआ है। वेद प्रकाश मोबाइल का काम करने के साथ ही दवा की दुकान पर सीख रहा था। भाभी को बेटा पैदा होने की वजह से चार दिन से वह दुकान पर नहीं जा पा रहा था। शुक्रवार की रात वह जल्दी ही खाना खाकर पहली मंजिल पर अपने कमरे में सोने चला गया था। बाद में वेद प्रकाश की पत्नी, भाभी और मां ने एक साथ खाना खाया। खाना खाने के बाद वेद प्रकाश की पत्नी भी कमरे में चली गई। जिस वक्त घटना हुई उस वक्त वेद की भाभी अपने पति से मोबाइल पर बात कर रहीं थीं। वह बस्ती गए थे। उसी दौरान गेट पर आवाज हुई और गोली चली। वेद प्रकाश के मम्मी-पापा और भाभी तीनों नीचे थे।

तिवारी के फ़ोन को भी पुलिस ने किया जब्त
गोली मारने वाले बदमाशों ने वेद प्रकाश चौधरी के घर के सामने गेट खटखटाते हुए तिवारी के नाम से आवाज दी थी। वेद प्रकाश के घर के सामने एक तिवारी जी का मकान है। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि कहीं यह बदमाश तिवारी जी के घर तो नहीं आए थे और गलतफहमी में वेद प्रकाश को निशाना बना दिया। पुलिस ने इसके लिए तिवारी जी के लड़के को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि कहीं तिवारी जी को वेद प्रकाश ने तो नहीं पुकारा था। इसके अलावा चार दिन पहले वेद प्रकाश का अपने ड्राइवर से विवाद हुआ था। वेद प्रकाश की बोलेरो गाड़ी किराये पर चलती है। चार हजार रुपये भाड़ा देने की जगह ड्राइवर ने 12 सौ रुपये भाड़ा दिया था इसको लेकर वेद प्रकश और ड्राइवर में कहासुनी हुई थी।

पोस्टमार्टम के बाद शव लेकर बस्ती चले गए परिवारीजन
पोस्टमार्टम के बाद वेद प्रकाश का शव लेकर परिवारीजन अपने पैतृक गांव बस्ती चले गए। गोरखपुर के आवास पर ताला बंद हो गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि बदमाशों ने वेद प्रकाश को एक गोली मारी थी। गोली आंख के रास्ते सिर से होते हुए गर्दन से बाहर आ गई।

मोबाइल से हत्या का राज खुलने की उम्मीद

Most Popular