HomeगोरखपुरGorakhpur news- योगी सरकार के चार साल: चुनावों में विकास की बात...

Gorakhpur news- योगी सरकार के चार साल: चुनावों में विकास की बात करेगी भाजपा, गिनाएगी उपलब्धियां

विस्तार

आगामी त्रिस्तरीय पंचायत और विधानसभा चुनाव भाजपा विकास के मुद्दे पर ही लड़ेगी। पार्टी ने गोरखपुर क्षेत्र से जुड़े 10 जिलों में विकास की रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट के साथ ही भाजपाई घर-घर दस्तक भी देंगे। योगी सरकार की उपलब्धियां गिनाकर सहयोग मांगेंगे। कानून व्यवस्था में सुधार की बात भी जनता को बताई जाएगी।

योगी सरकार के चार वर्षों का कार्यकाल शुक्रवार को पूरा होगा। इससे पहले भाजपा ने उपलब्धियां गिनाने की रणनीति बना ली है। पार्टी नेताओं का कहना है कि पहली अग्निपरीक्षा त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव है। भाजपा पहले जिला पंचायत सदस्य का चुनाव दमखम से लड़ेगी, फिर जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव में जाएगी।

पार्टी की मंशा अपना जिला पंचायत अध्यक्ष व ब्लॉक प्रमुख बनाना है। इसके पीछे का मकसद मिशन 2022 भी है। चार वर्षों का कार्यकाल पूरा होने के साथ ही पार्टी चुनावी अभियान में जुट जाएगी। विकास व उपलब्धियां गिनाकर आगामी चुनावों में पार्टी जनसमर्थन मांगेगी।  

 

गोरखपुर में जितना विकास 40 वर्षों में नहीं, उतना चार वर्षों में हुआ

भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह ने उत्साह से कहा गोरखपुर का जितना विकास 40 वर्षों में नहीं हुआ था, उतना चार साल में हो गया है। इतने विकास कार्य कराए गए हैं, जिन्हें गिना भी नहीं जा सकता है। शहर के चारों तरफ सड़कों का जाल बिछ गया है। पूर्वांचल लिंक एक्सप्रेस का बजट पास हो चुका है। गोरखपुर-लखनऊ की सड़क सिक्स लेन होगी। नौसड़ से पैडलेगंज तक सिक्सलेन सड़क बन रही है।

देवरिया व महराजगंज को जोड़ने वाली सड़कें फोरलेन हो गई हैं। गोरखपुर-वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग जल्द ही बन जाएगा। एयर कनेक्टिविटी में जबरदस्त सुधार हुआ है। शहर की साफ-सफाई, यातायात व्यवस्था में जबरदस्त सुधार हुआ है। जल्द ही मेट्रो का काम शुरू होगा। चिड़ियाघर, रामगढ़ताल परियोजना, खाद कारखाना व एम्स से गोरखपुर का गौरव बढ़ा है। पिपराइच चीनी मिल चालू हो गई। धुरियापार में 1200 करोड़ की लागत से एथेनॉल प्लांट स्थापित किया जा रहा है।

बलिया के गांव में 70 साल बाद पहुंची बिजली व शिक्षा
क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि विकास का आदर्श उदाहरण देखना है तो बलिया जिले के नौरंगा गांव जाना पड़ेगा। इस गांव की आबादी 12 हजार है। योगी सरकार की बदौलत इस गांव में 70 साल बाद सोलर लाइट जली है। मुख्यमंत्री की पहल के बाद ही राज्यसभा सांसद विनय सहत्र बुद्धे, उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा विशेष तौर से गांव गए थे। अब गांव में विद्यालय बन चुका है। लड़कियां गांव में ही पढ़ती हैं। यह गांव कछार क्षेत्र में है। पहले विकास नहीं था। लिहाजा, जब भी चुनाव होता था, तब 12 हजार की आबादी वाला गांव चुनाव का बहिष्कार करता था। अब ऐसा नहीं है।  

 

मुख्तार अंसारी पर सख्ती को फायदे में देख रही भाजपा

भाजपा आगामी चुनावों में कानून-व्यवस्था में सुधार का मुद्दा भी बनाएगी। पार्टी नेताओं का कहना है कि योगी सरकार ने संगठित गिरोह व अपराधियों की कमर तोड़ दी है। इसका सबसे ज्यादा फायदा पूर्वांचल में मिलने की उम्मीद है। बाहुबली मुख्तार अंसारी गाजीपुर के रहने वाला है, लेकिन मऊ सदर से लगातार पांचवीं बार विधायक है। मऊ भाजपा गोरखपुर क्षेत्र का हिस्सा है। योगी सरकार ने मुख्तार अंसारी की तमाम संपत्तियों को जब्त कर लिया है। तमाम संपत्तियों पर बुलडोजर चला है। इसका सकारात्मक संदेश गया है।

हर जिले में विकास की गंगा बही
क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह कहते हैं कि गोरखपुर ही नहीं, हर जिले में विकास की गंगा बह रही है। देवरिया, बस्ती, महराजगंज, सिद्धार्थनगर और कुशीनगर में मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। आजमगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय की मंजूरी मिल चुकी है। बस्ती की मुंडेरवा चीनी मिल चालू हो गई है। कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनकर तैयार है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पूर्वांचल के विकास का मुख्य आधार बनने वाला है।

भाजपा गोरखपुर क्षेत्र से जुड़े जिले
गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर, महराजगंज, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर, आजमगढ़, मऊ और बलिया।
 
विधानसभा की 62 सीटें, 44 भाजपा के पास
क्षेत्र में विधानसभा की 62 सीटें हैं, इसमें से 44 भाजपा के पास हैं। दो सीटें भाजपा की सहयोगी दलों ने जीती थीं। सबसे ज्यादा 10 सीटें आजमगढ़ जिले में और नौ गोरखपुर में हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने गोरखपुर की आठ सीटें जीती थीं। एक पर हार मिली थी। सबसे ज्यादा झटका आजमगढ़ में लगा था। भाजपा ने 10 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे, लेकिन नौ सीटों पर हार का सामना करना पड़ा था। बस्ती की सभी विधानसभा सीटें भाजपा ने जीती थीं।  
 
लोकसभा की 13 सीटें, 10 भाजपा के पास
क्षेत्र में लोकसभा की 13 सीटें हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में 10 सीटें भाजपा ने जीती थीं। तीन सीटों (आजमगढ़, लालगंज व घोसी मऊ) पर हार का सामना करना पड़ा था। गोरखपुर शहर, बांसगांव, देवरिया, सलेमपुर, बस्ती, संतकबीरनगर, कुशीनगर, महराजगंज, डुमरियागंज (सिद्धार्थनगर) और बलिया की सीट भाजपा ने जीती थी। 2017 के विधानसभा चुनाव के नतीजों की अपेक्षा लोकसभा चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन सुधरा था।

गोरखपुर में जितना विकास 40 वर्षों में नहीं, उतना चार वर्षों में हुआ

Most Popular