HomeMotivationalIAS तपस्या परिहार ने अपने पिता को नहीं करने दिया अपना कन्यादान,जानिए...

IAS तपस्या परिहार ने अपने पिता को नहीं करने दिया अपना कन्यादान,जानिए क्या थी इसके पीछे की वजह

एक आईएएस अफसर की शादी काफी आजकल चर्चा में है. मध्यप्रदेश के पंचमढ़ी में 12 दिसंबर को नरसिंहपुर निवासी 2018 बैच के आईएएस तपस्या परिहार की शादी हुई. तपस्या की शादी उनके बैचमेट अर्पित गंगा वार से हुई. अपनी शादी में तपस्या ने सबको हैरान कर देने वाला एक कदम उठाया. जब तपस्या के पापा उनका कन्यादान करने पहुंचे तब उन्होंने अपने पापा को रोक दिया. उन्होंने कहा कि मैं दान की चीज नहीं, आपकी बेटी हूं पापा. उनके इस निर्णय की अब सर्वत्र प्रशंसा हो रही है.

ज़ब तपस्या ने यह बात कही तब वहां मौजूद सभी लोग हैरान रह गए. लेकिन जब लोगों को इस बात का मतलब समझ आया तब सबकी आंखें नम हो गई. आपको बता दें कि जब तपस्या परिहार के पापा विश्वास परिहार उनका कन्यादान करने गए तब तपस्या ने उन्हें रोक दिया. वह बोली कि -‘पापा मैं आपकी बेटी हूं और हमेशा रहूंगी. मैं कोई दान की चीज नहीं हूं. कहा कि जब दो परिवार एक हो रहे हैं, तो ऐसे में दान की कोई बात ही नहीं आनी चाहिए.ये शब्द सुनकर पिता भी भावविभोर हो उठे, उन्होंने बेटी को गले लगा लिया. वहां मौजूद सभी लोग तब भाव विभोर हो गए. उनके होने वाले पति अर्पित ने भी उनके भावनाओं का सम्मान किया.

कन्यादान बेटियों को उनके अधिकारों से वंचित करने की रस्म-

आईएस तपस्या के पिता ने सबको या समझाते हुए कहा कि कन्यादान जैसे रस्में समाज में पुरुष प्रधानता को स्थापित करने वाली हैं. इस तरह से बेटियों का अधिकार उनसे छीन लिया जाता है.

सारे बदलाव हम ही क्यों करें

तपस्या ने कहा कि शादी के बाद पति की उम्र बढ़ाने के लिए महिला को मंगलसूत्र बिच्छीया आदि पहनना पड़ता है. पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखना पड़ता है और साथ ही साथ पति का सरनेम लगाना पड़ता है. उन्होंने कहा कि सारे बदलाव लड़कियां ही क्यों करें.

तमिलनाडु कैडर से आए हैं गर्वित

तपस्या परिहार के होने वाले पति गर्वित तमिलनाडु कैडर के IFS अफसर है.

Most Popular