Home लखनऊ Lucknow news - अर्नब गोस्वामी मामले को लेकर सियासत: ओम प्रकाश राजभर...

Lucknow news – अर्नब गोस्वामी मामले को लेकर सियासत: ओम प्रकाश राजभर ने कहा- अर्नब की गिरफ्तारी पर आंसू बहाने वाले बताएं यूपी में पत्रकारों का उत्पीड़न इमरजेंसी या रामराज का हिस्सा

यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने यूपी में पत्रकारों के उत्पीड़न को लेकर योगी सरकार पर हमला बोला है।

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं ओम प्रकाश राजभरकहा- यूपी सरकार तब क्यों चुप थी जब यहां पत्रकारों का उत्पीड़न हुआ

रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्‍वामी की गिरफ्तारी को लेकर अब यूपी में भी सियासत शुरू हो गई है। उत्तर प्रदेश के मुख्मयंत्री योगी आदित्यनाथ ने अर्नब गोस्वामी के खिलाफ हुई कार्रवाई को गलत बताया था। लेकिन अब यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके राजभर ने योगी सरकार और केंद्र सरकार पर दोहरे मानदंड अपनाने का आरोप लगाया है। राजभर ने कहा है कि अर्नब के खिलाफ हुई कार्रवाई पर बिलबिलाने वाले तब चुप क्यों थे जब यूपी में पत्रकारों का उत्पीड़न हो रहा था।

ओम प्रकाश राजभर ने टि्वट कर लिखा, ”योगी सरकार में एक साल मे चालीस पत्रकारों पर FIR हुई ! पत्रकारों की हत्या हो गयी! सरकार के खिलाफ ख़बर लिखने पर EOW जैसी ऐजेसी पीछे लगा दी गयी पर जो आज अर्नब की गिरफ्तारी पर बिलबिला रहे है वह ख़ामोश थे और अर्नब की गिरफ़्तारी से इनको लोकतंत्र की याद आ रही है ! नौटंकी इसी को कहते है!”

योगी सरकार में मिड डे मील के नाम पर मासूम बच्चों को नमक रोटी परोसे जाने की खबर सामने लाने वाले मिर्जापुर के पत्रकार पवन जायसवाल, आज़मगढ़ के पत्रकार संजय जायसवाल, प्रशांत कनौजिया भ्रष्टाचार उजागर करने वाले मनीष पांडेय के साथ UP सरकार ने जो किया वो क्या था ? इमरजेंसी या रामराज ? ✌️

— Om Prakash Rajbhar (@oprajbhar) November 4, 2020

यूपी में पत्रकारों का उत्पीड़न रामराज या इमरजेंसी ?

दूसरे टि्वट में योगी सरकार में मिड डे मील के नाम पर मासूम बच्चों को नमक रोटी परोसे जाने की खबर सामने लाने वाले मिर्जापुर के पत्रकार पवन जायसवाल, आज़मगढ़ के पत्रकार संजय जायसवाल, प्रशांत कनौजिया भ्रष्टाचार उजागर करने वाले मनीष पांडेय के साथ UP सरकार ने जो किया वो क्या था ? इमरजेंसी या रामराज ?

राजभर यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि पत्रकार गौरी लंकेश,नरेंद्र दाभोलकर पर जानलेवा हमले होते है। प्रशान्त कनोजिया को जेल में डाला जाता है। दलित पत्रकार मीना कोटवाल के साथ हाल ही में बिहार के मोतिहारी में बदसुलूकी की जाती है। तब अर्णव के समर्थन में उतरने वाले बीजेपी के लोग छुपे होते है या फंसे होते है?पूछता है भारत?

वरिष्ठ पत्रकार श्री अर्नब गोस्वामी जी की गिरफ्तारी कांग्रेस पार्टी के द्वारा अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रहार है।

देश में इमरजेंसी थोपने व सच्चाई का सामना करने से हमेशा मुंह छुपाने वाली कांग्रेस पुनः प्रजातंत्र का गला घोंटने का प्रयास कर रही है।

— Yogi Adityanath (@myogiadityanath) November 4, 2020

योगी ने अर्नब की गिरफ्तारी को बताया था गलतरिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्‍वामी की गिरफ्तारी को लेकर सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने कांग्रेस पर सीधा हमला बोला। उन्‍होंने एक ट्वीट में अर्णब की गिरफ्तारी को कांग्रेस द्वारा अभिव्‍यक्ति की आजादी पर हमला करार दिया।

सीएम योगी ने कहा कि वरिष्ठ पत्रकार श्री अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी कांग्रेस पार्टी के द्वारा अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रहार है। देश में इमरजेंसी थोपने व सच्चाई का सामना करने से हमेशा मुंह छुपाने वाली कांग्रेस पुनः प्रजातंत्र का गला घोंटने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस समर्थित महाराष्ट्र सरकार का यह कृत्य लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ मीडिया को स्वतंत्र रूप से कार्य करने से रोकने का कुत्सित प्रयास है।

Input – Bhaskar.com

Most Popular