Home लखनऊ Lucknow news- कारपोरेट की पोषक हैं भाजपा सरकार की नीतियां : अखिलेश

Lucknow news- कारपोरेट की पोषक हैं भाजपा सरकार की नीतियां : अखिलेश

सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि तीन कृषि कानून बनाकर भाजपा सरकार ने किसानों के हितों पर गहरी चोट की है। भाजपा सरकार की नीतियां कारपोरेट की पोषक हैं।

यादव ने सोमवार को कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों के साथ किया गया एक भी वादा पूरा नहीं किया। न तो किसानों को लाभकारी समर्थन मूल्य और न ही उत्पादन लागत का ड्योढ़ा दाम मिला। महंगाई व कर्ज से त्रस्त किसान आत्महत्या कर रहे हैं। गन्ना किसानों का अभी तक बकाया अदा नहीं हुआ। किसानों की खेती कारपोरेट के हाथों गिरवी रखने तथा खेती पर से किसानों का स्वामित्व छीनने के लिए भाजपा सरकार तीन नए कानून ले आई है। इस कानून से किसान का हक और सम्मान दोनों छिन जाएंगे। इसलिए पूरे देश में किसान आंदोलन चल रहे है। भाजपा नेतृत्व किसानों में भ्रम व भय फैलाकर राजनीतिक स्वार्थ पूरा करना चाहता है। भाजपा नेता किसानों को बदनाम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सपा के कार्यकर्ता भी ज्यादातर किसान हैं। इसलिए खेती से जुड़े सवालों पर उनकी चिंता स्वाभाविक है। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के संघर्ष में समाजवादी उनके साथ है। भारत बंद में भी सपा किसानों के पक्ष में खड़ी रही। उन्होंने कहा कि 23 दिसंबर को किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह की जयंती है। सपा इसे किसान दिवस के रूप में मनाएगी। वहीं, 25 दिसंबर समाजवादी किसान घेरा बनाकर चौपाल आयोजित की जाएंगी। गांव के स्तर पर किसानों के बीच अलाव जलाकर पार्टी नेता भाजपा की किसान विरोधी नीतियों का पर्दाफाश करेंगे। 25 दिसंबर को ही महाराजा बिजली पासी जयंती भी मनाई जाएगी।

अंतिम सांसें ले रही भाजपा सरकार

सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोमवार को सपा मुख्यालय से संतकबीरनगर में हुई वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार से किसान, नौजवान, व्यापारी, दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यक सभी परेशान है। भाजपा सरकार अब अंतिम सांसे ले रही है। जनता का सहयोग सपा के साथ है। वर्ष 2022 में सपा की ऐतिहासिक जीत होगी।

अखिलेश यादव ने रात में रैली के संयोजक सुनील सिंह की गिरफ्तारी को अवैध और निंदनीय बताया। कहा कि भाजपा सत्ता का दुरूपयोग करने से बाज आए। भाजपा का लोकतंत्र पर भरोसा नहीं है। हिरासत में मौतों और फर्जी एनकाउंटरों पर मानवाधिकार आयोग राज्य सरकार को कई नोटिसें जारी कर चुका है। महिलाओं के साथ दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं से पूरे देश में बदनामी हो रही है। नौजवानों को नौकरी मिली नहीं। 4 लाख करोड़ का निवेश कहा हुआ, पता नहीं। गोरखपुर में एम्स आयुर्विज्ञान संस्थान अभी तक बन नहीं पाया।

सपा अध्यक्ष ने कहा, भाजपा किसानों को डराना चाहती है। पर किसान डरने वाला नहीं है। तीन कृषि कानून किसान विरोधी है। उनसे कुछ पूंजीपतियों को ही लाभ मिलेगा। किसानों के साथ भाजपा ने बड़ा धोखा किया है। एमएसपी मिली नहीं। आय दुगनी हुई नहीं। धान की कीमत 1100 रूपये से ज्यादा नहीं मिली। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार जाति के आधार पर निर्णय लेती है। झूठे मुकदमें लगाती है। बदले की भावना से उत्पीड़न करती है। किसान नेता अंबिका राय ने कहा कि अखिलेश यादव पर कोई लांछन नहीं है। उनकी छवि बेदाग नेता की है। इस बार कोई भी ताकत अखिलेश को मुख्यमंत्री बनने से नहीं रोक सकेगी। वर्चुअल रैली कार्यक्त्रस्म में लखनऊ से रामगोविन्द चौधरी, अहमद हसन और राजेन्द्र चौधरी शामिल हुए। अखिलेश यादव के साथ बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीरनगर और गोरखपुर के भी कई नेता जुड़े।

आगे पढ़ें

अंतिम सांसें ले रही भाजपा सरकार

Most Popular