HomeलखनऊLucknow news - खाप चौधरियों ने CM योगी से की मुलाकात: किसानों...

Lucknow news – खाप चौधरियों ने CM योगी से की मुलाकात: किसानों के मुद्दे पर हुई चर्चा, किसान नेताओं ने कहा- किसान पंचायतों को सभी खापों का समर्थन नहीं

पश्चिमी यूपी के विभिन्न खाप नेताओं से मुलाकात करते सीएम योगी।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के विधायक पंकज मलिक के नेतृत्व में यह प्रतिनिधिमंडल सीएम से मिला

दिल्ली में गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच शनिवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के खाप पंचायत के किसान प्रतिनिधियों ने लखनऊ आवास सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। भाजपा के विधायक पंकज मलिक के नेतृत्व में 16 सदस्यों के खाप चौधरियों के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की है। इस दौरान किसान नेताओं ने कहा कि ऐसी सूचनाएं गलत हैं जिसमें कहा जा रहा है कि किसान पंचायतों में सभी खापें शामिल हैं।

पश्चिमी यूपी के खाप चौधरियों ने आज लखनऊ में सीएम योगी से भाजपा विधायक उमेश मालिक की अगुवाई में मुलाकात करके सियासी पारा चढ़ा दिया हैं। इस दौरान खास तौर पर बिजली,गन्ना मूल्य बढ़ोत्तरी और आवारा पशुओ का मसला भी उठाया गया, लेकिन केंद्र में किसान आंदोलन ही रहा। सीएम ने आश्वासन देते हुए कहा कि हम आपके द्वारा बताए गए सभी विषयों पर विचार करेंगे।

किसानों की समस्याओं और किसी बिल पर हुई चर्चासीएम योगी आदित्यनाथ के आवास पर 15 सदस्य खाप चौधरियों के बीच मुलाकात हुई। मिली जानकारी के अनुसार अब खाप चौधरियों ने किसान बिल में संशोधन को लेकर सीएम से अपना पक्ष रखा हैं। खास तौर पर बिजली,गन्ना मूल्य बढ़ोत्तरी और आवारा पशुओ का मसला भी उठाया गया, लेकिन केंद्र में किसान आंदोलन ही रहा।

किसान नेताओं ने आश्वासन देते हुए कहा कि हम आपके द्वारा बताए गए सभी विषयों पर विचार करेंगे। खाप चौधरियों ने आश्वस्त किया कि, कुछ लोग ये कह रहे थे कि किसान पंचायत में सभी खापों ने समर्थन दे दिया, ऐसा नहीं है। खापों से प्रतिनिधियों ने कहा कि पश्चिमी यूपी में बिजली की बढ़ी दरें, गन्ना मूल्य भुगतान में देरी और गन्ना मूल्य में वृद्धि नहीं होने से आम किसानों में नाराजगी है।

फुगाना थांबा के हरवीर सिंह ने कहा कि जब राजकीय नलकूपों और नहरों से सिंचाई मुफ्त हो सकती है तो किसानों के निजी ट्यूबवैल को बिजली मुफ्त या कम दर पर क्यों नहीं दी जा सकती। खाप प्रतिनिधियों ने कहा कि पश्चिमी यूपी में गन्ना मुख्य फसल है। सरकार को गन्ना किसानों की बेहतरी की तरफ ध्यान देना चाहिए। लंबे समय तक किसानों को बकाया भुगतान नहीं मिलता जबकि वे जो खाज, बीज लेते हैं, बैंक से कर्ज लेते हैं, उस पर ब्याज बढ़ता जाता है। बिजली दरें बढ़ने से विद्युत बिलों के भुगतान का संकट खड़ा हो रहा है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular