Home लखनऊ Lucknow news- छमाही परीक्षा शुरू, स्कूलों में हुई 90 प्रतिशत तक की...

Lucknow news- छमाही परीक्षा शुरू, स्कूलों में हुई 90 प्रतिशत तक की उपस्थिति

अभिषेक सिंह

लखनऊ। यूपी बोर्ड के स्कूलों में छमाही परीक्षाएं शुरू हो चुकी हैं। परीक्षाओं के दौरान छात्रों की उपस्थिति 90 प्रतिशत तक पहुंच गई है। जिन सरकारी विद्यालयों में 20 प्रतिशत तक छात्र आते थे वहां अब परीक्षा के दौरान 90 प्रतिशत तक आ रहे हैं। दीपावली अवकाश के बाद यूपी बोर्ड के विद्यालयों में कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों के लिए छमाही परीक्षाएं शुरू हो गई हैं। ज्यादातर विद्यालयों में परीक्षाएं ऑफलाइन कराई जा रही है। जिन सरकारी विद्यालयों में छात्रों की उपस्थिति 20 से 30 प्रतिशत पर अटक गई थी वहां परीक्षा के दौरान 90 प्रतिशत तक छात्र आ रहे हैं।

जीजीआईसी सरोसा भरोसा की वरिष्ठ प्रवक्ता डॉ. वंदना तिवारी ने बताया कि स्कूल खुलने के शुरुआती दौर में छात्राओं की उपस्थित 10 से 15 प्रतिशत थी, जो अब बढ़कर 30 से 35 प्रतिशत हो गई है। अब जब छमाही परीक्षाएं शुरू हुई तो यह आंकड़ा 90 प्रतिशत पर पहुंच गया। सभी छात्राएं अभिभावकों की सहमति पर आ रही हैं। एक सकारात्मक संदेश जा रहा है कि महामारी काल में भी छात्र व अभिभावक पढ़ाई और परीक्षा को लेकर गंभीर हैं। उन्होंने बताया कि कोविड 19 का पालन करते हुए स्कूल की सभी कक्षाओं व हॉल में छात्राओं को बैठाया जा रहा है ताकि पर्याप्त सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे।

राजकीय जुबली इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य धीरेंद्र ने बताया कि बृहस्पतिवार को छमाही परीक्षा का पहला दिन था। कुल 1177 में से 958 छात्र उपस्थित रहे। परीक्षा को लेकर अभिभावक व छात्र काफी सजग है। हर क्लास में थोड़े थोड़े बच्चों को बैठाकर परीक्षा दिलाई जा रही है। अमीनाबाद इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य साहेब लाल मिश्रा ने बताया कि उनके यहां ऑफलाइन व ऑनलाइन दोनों मोड में परीक्षाएं कराई जा रही हैं। इसलिए छात्र ऑनलाइन में ज्यादा बैठ रहे हैं। प्रश्न पेपर मोबाइल पर भेजा जाता है और निर्धारित समय पर पूरा करने के लिए कहा जाता है। बाद में छात्रों के अभिभावक स्कूल आकर उत्तर पुस्तिका जमा कर जाते हैं। तीन अलग-अलग समय पर परीक्षाएं कराई जा रही है।
70 प्रतिशत से ज्यादा पाठ्यक्रम पूरा
स्कूलों के अनुसार बोर्ड परीक्षा के लिए छात्रों के विभिन्न विषयों के 70 प्रतिशत से ज्यादा पाठ्यक्रम पूरा करा लिया गया गया है। शिक्षकों के अनुसार बोर्ड ने तीस प्रतिशत तक पाठ्यक्रम में कटौती की है, जिससे पाठ्यक्रम जल्दी पूरा करने में मदद मिली है। जब दोबारा स्कूल खुले तो विज्ञान, गणित, भौतिक विज्ञान जैसे विषयों के पाठ्यक्रम को पूरा कराने पर ज्यादा जोर दिया जा रहा है। वरिष्ठ प्रवक्ता डॉ. वंदना तिवारी ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान टीवी पर जो वीडियो लेक्चर प्रसारित करने का कार्यक्रम शुरू हुआ उससे छात्रों को काफी मदद मिल रही है। महत्वपूर्ण टॉपिक छात्रों ने टीवी से पढ़ा और जब स्कूल खुले तो अपनी ज्यादा शंकाओं को दूर किया। प्रधानाचार्य धुरेन्द्र ने बताया कि उनके यहां अधिकतर विषयों के 80 प्रतिशत तक पाठ्यक्रम को पूरा कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि समय से पूरा पाठ्यक्रम खत्म कर रिवीजन करने का समय मिलेगा, जिसमें छात्र जमकर अभ्यास कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रम में कटौती की वजह से जल्दी पूरा करने में सहायता मिल रही है। साहेब लाल मिश्रा ने बताया कि 60 प्रतिशत से ज्यादा पाठ्यक्रम पूरा कर लिया गया है। गणित व प्रैक्टिकल वाले विषयों के ही पाठ्यक्रम बचे हैं।
पहले ही दे दिया था 50 प्रतिशत पाठ्यक्रम में कटौती का प्रस्ताव
यूपी बोर्ड ने कोरोना को ध्यान में रखते हुए पाठ्यक्रम में 30 प्रतिशत तक की कटौती की है। यह कटौती जुलाई के महीने में ही कर दी थी। अभी 15 से 20 तक की कटौती और की जा सकती है। शिक्षकों के अनुसार इसका प्रस्ताव पहले ही तैयार कर लिया गया था। वरिष्ठ प्रवक्ता वह पाठ्यक्रम समिति की सदस्य डॉ. वंदना तिवारी ने बताया कि बोर्ड ने उस दौरान ही 50 प्रतिशत तक पाठ्यक्रम में कटौती का प्रस्ताव हम शिक्षकों से लिया था। बाद में 30 प्रतिशत तक की कटौती की गई। यदि वे 15 से 20 प्रतिशत तक करेंगे तो उसी प्रस्ताव के अनुसार ही करेंगे।

Most Popular