Home लखनऊ Lucknow news- जिले में सुस्त पड़ी गोल्डेन कार्ड बनाने की रफ्तार

Lucknow news- जिले में सुस्त पड़ी गोल्डेन कार्ड बनाने की रफ्तार

गौरीगंज (अमेठी)। आयुष्मान भारत योजना के तहत चिन्हित लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाने की रफ्तार जिले में बेहद सुस्त है। योजना के तहत जिले में चिन्हित एक लाख 32 हजार 856 परिवार के छह लाख 64 हजार 280 लोगों के सापेक्ष अब तक महज एक लाख 33 हजार 443 लोगों का ही गोल्डन कार्ड बन सका है। कोविड-19 की रफ्तार सुस्त होने के बाद विभाग ब्लॉकवार चिन्हित गांवों में प्रतिदिन कैंप लगाकर निशुल्क कार्ड बनाने की कवायद में जुटा है।

गरीबों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए भारत सरकार की ओर से संचालित आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच लाख रुपये तक का इलाज कराने की व्यवस्था है। इसके लिए वर्ष 2011 की बीपीएल सूची में दर्ज परिवारों को ही पात्र माना गया है। जिले में कुल एक लाख 32 हजार 856 परिवार को पात्रता की श्रेणी में चिन्हित करते हुए छह लाख 64 हजार 280 लोगों का गोल्डन कार्ड बनाने का लक्ष्य निर्धारित हुआ था।

स्वास्थ्य विभाग की तमाम कवायद के बावजूद अब तक जिले में महज एक लाख 33 हजार 443 का ही गोल्डन कार्ड बन सका है। कोविड-19 के चलते जिले में मार्च माह के अंतिम सप्ताह से कार्ड बनाने की प्रक्रिया ठप हो गई थी। कोविड-19 की रफ्तार जिले में सुस्त होने के बाद अब दोबारा इसकी कवायद शुरू कर दी गई है। सीएमओ डॉ. आशुतोष दुबे ने बताया कि प्रतिदिन ब्लॉकवार चिन्हित गांवों में कैंप आयोजित कर चिन्हित लोगों का निशुल्क गोल्डन कार्ड बनाने का काम चल रहा है। कहा कि प्रतिदिन प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर 100 कार्ड बनाने का लक्ष्य निर्धारित है।

Most Popular