HomeलखनऊLucknow news- जेल मे दाखिल होने के बाद सात दिनो तक एक...

Lucknow news- जेल मे दाखिल होने के बाद सात दिनो तक एक ही बैरक मे रहेंगे नए बन्दी

लखनऊ। कोरोना संक्रमण तेजी से अधिकारियों व कर्मचारियों को भी चपेट में ले रहा है। ऐसे में जेलों में बंदियों को संक्रमण से बचाना बड़ी चुनौती है। हालांकि डीजी जेल के निर्देश पर जेल प्रशासन ने जेल में ही बंदियों को क्वारंटीन व आइसोलेट करने के साथ ही संक्रमित बंदियों के इलाज तक की व्यवस्था कर ली है। बंदियों को कोरोना से बचाने के लिए सुरक्षा घेरा तैयार कर सर्किल नम्बर एक व पांच को कोविड सुरक्षा जोन बनाया गया है। जिला जेल में अब नए बंदियों की आमद पर 14 दिनों तक दो चरणों मे क्वारंटीन किया जाएगा।

जेल में दाखिल होने पर पहले चरण में सर्किल नम्बर एक की एक ही बैरक में सात दिन क्वारंटीन रखा जाएगा। दूसरे चरण में कोरोना जांच के बाद आठवें दिन उन्हें सर्किल नम्बर पांच में शिफ्ट किया जाएगा। इन्हें यहां भी सात दिनों तक एक ही बैरक में रखने के बाद कोरोना की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आने पर सर्किल में शिफ्ट किया जाएगा जिससे नए बंदियों को पुराने बंदियों से दूर रखा जा सके। राहत की बात ये है कि राजधानी में प्रतिदिन हजारों नए केस निकलने के बावजूद जिला जेल फिलहाल कोरोना से मुक्त बताया जा रहा है।

गोसाईंगंज के मोहारी खुर्द स्थित जिला जेल में करीब चार हजार बंदी हैं। इसमें गैंगरेप रेप व खनन घोटाले के आरोपी पूर्व मंत्री गायत्री प्रजापति भी शामिल हैं। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए विभाग के मुखिया डीजी आनंद कुमार ने बंदियों को संक्रमण से बचाने के लिए जेल अधिकारियों के साथ मिलकर सुरक्षा चक्र तैयार किया है। दरअसल अस्थायी जेल का अस्तित्व समाप्त होने पर जेल प्रशासन ने सुरक्षा कवच के तहत सर्किल नम्बर एक व पांच को क्वारंटीन सेंटर बनाया है। जेल आने वाले बंदियों को सात-सात दिनों तक दो शिफ्टों में क्वारंटीन किया जा रहा है।

आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट निगेटिव आने पर सर्किलों में भेज दिया जाएगा। इस दौरान डिप्टी जेलर की अगुवाई में जेल कर्मियों की टीम बंदियों की निगरानी करेगी। डीजी जेल के पीआरओ संतोष वर्मा ने बताया कि कोरोना से बचाव के लिए जेलों में बंदियों का वैक्सीनेशन कराने के साथ ही बैरकों में उनके बीच सोशल डिस्टेंसिंग का खास ख्याल रखा जा रहा है। इसके अलावा जेल के अंदर दवा का छिड़काव व सैनिटाइजेशन भी कराया जा रहा है।

जेल में कोविड प्रोटोकाल का हो रहा पालन

प्रभारी जेल अधीक्षक वीरेंद्र कुमार वर्मा ने बताया कि कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए आदर्श कैदियों के बाहर जाने पर रोक लगा दी गई है। इसके अलावा जेल की बैरकों का नियमित सैनिटाइजेशन कराया जा रहा है। जेल की फैक्टरी में लगे कैदियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के साथ ही बैरकों में कैदियों द्वारा मास्क का प्रयोग किया जा रहा है। कैदियों के लिए काढ़ा, सैनिटाइजर, हाथ धुलने के लिए साबुन व पौष्टिक आहार की व्यवस्था की गई है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular