HomeलखनऊLucknow news - टीबी मुक्त अभियान पर सियासत: CM योगी बोले- कम...

Lucknow news – टीबी मुक्त अभियान पर सियासत: CM योगी बोले- कम हुई मरीजों की संख्याच, लल्लू का पलटवार- कोरोना के चलते मरीज ही चिन्हित नहीं हुए थे

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू। - Dainik Bhaskar

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू।

अजय कुमार लल्लू ने टीबी रोगियों के आंकड़े जारी किए, कहा- सरकार का अभियान पोस्टर और प्रचार तक सीमितटीबी रोग के तांडव को रोकने में यूपी सरकार नाकाम, देश का हर 5वां संक्रमित मरीज उत्तर प्रदेश से

वर्ल्ड टीबी (ट्यूबरक्लोसिस-क्षय रोग) डे पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सीतापुर में थे। उन्होंने कहा कि PM नरेंद्र मोदी ने भारत को टीबी से साल 2025 तक मुक्त करने का लक्ष्य रखा है। योगी ने दावा कि पिछले साल 2020 की तुलना में इस साल 2021 में टीबी मरीजों की संख्या कम हुई है। लेकिन अब CM के दावे पर सियासत शुरु हो गई है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने टीबी मरीजों के आंकड़े जारी करते हुए कहा कि कोरोना के चलते टीबी मरीज चिन्हित नहीं हो सके। इसलिए मरीजों की संख्या आंकड़ों में घटकर आई है।

मरीजों को नहीं मिल रहा इलाजप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू ने कहा कि आज से शुरू हुए विश्व टीबी (क्षय) रोग दिवस अभियान को लेकर योगी सरकार बड़े-बड़े विज्ञापनों के माध्यम से प्रचारित कर रही है। टीबी के मरीजों को पोषण के लिए दी जाने वाली 500 रुपए की रकम तो दूर, मरीजों को उचित इलाज भी नहीं मिल पा रहा है। शायद यही कारण है कि देश में हर साल 4 लाख से ज्यादा लोगों की मौतें टीबी से हो रही है।

प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं वेंटिलेटर परअजय लल्लू ने कहा कि उत्तर प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाएं पहले से ही वेंटिलेटर पर हैं। यहां अस्पतालों में ना तो डॉक्टर हैं और ना ही नर्स। टीबी की दवाओं का भी पूर्णतया अभाव है। जिसकी वजह से यहां के हालात और भी ज्यादा बदतर होते जा रहे हैं। देश का हर 5वां टीबी से संक्रमित मरीज उत्तर प्रदेश से है और ये संख्या लगातार बढ़ रही है।

जारी किए आंकड़े

सालदेशउत्तर प्रदेश201717,34,9052,96,910201821,01,0824,11,006201924,01,5894,87,653202018,11,1053,68,112

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वर्ष 2021 में चिन्हित टीबी संक्रमित मरीजों की संख्या काफी गिर गई। इस साल मरीजों की संख्या गिरने का कारण कोरोना है। मरीज चिन्हित नहीं हो पाए थे, जिसकी वजह से यह संख्या कम होना प्रतीत हो रही थी। जबकि सच्चाई तो यह है कि टीबी के मरीजों को कोरोना के नाम पर भगवान के भरोसे छोड़ दिया गया और आज स्थिति भयावह हो चुकी है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular