HomeलखनऊLucknow news - बहराइच में 5 रुपए में भरपेट खाना: कोरोनाकाल में...

Lucknow news – बहराइच में 5 रुपए में भरपेट खाना: कोरोनाकाल में मिसाल बने समाजसेवी संदीप मित्तल, तीमारदारों को दे रहे भोजन

तीमारदारों को मिल रहा सस्ता खाना। - Dainik Bhaskar

तीमारदारों को मिल रहा सस्ता खाना।

उत्तर प्रदेश में बहराइच के समाजसेवी संदीप मित्तल सेवाभाव से मिसाल पेश कर रहे हैं। अपने भाई व सहयोगियों की मदद से लखनऊ के तीमारदारों व मरीजों का पेट भरने का काम करेंगे। वह भी मात्र पांच रुपये में। इस समय बहराइच में तीमारदारों को वह पांच रुपए में भोजन देकर पेट भरने का काम कर रहे हैं।

हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा हारे का सहारा अन्न रथ पिछले 3 वर्षों से जिला अस्पताल के बाहर तीमारदारों को मात्र पांच रुपये में भोजन देने का काम कर रहा है। ट्रस्ट के सचिव समाजसेवी संदीप मित्तल ने बताया कि टीम अन्नरथ कोरोना लॉकडाउन को देखते हुए लगातार कोरोना संक्रमितों के घरों पर भोजन भेजा जा रहा है। मरीजों व तीमारदारों को महंगे भोजन व भोजन के लिए भटकना न पड़े। इसके लिए समाजसेवी ने अब लखनऊ में भी अन्नरथ चलाने का फैसला लिया है।

लखनऊ में भी पांच रुपए में देंगे भोजनट्रस्ट के अध्यक्ष अमित मित्तल ने बताया कि हारे का सहारा अन्न रथ सेवा को राम मनोहर लोहिया अस्पताल के तीमारदारों के लिए शुरू किया जाएगा। लखनऊ के तीमारदार को भी मात्र पांच रुपये में भोजन देने का काम किया जाएगा। अध्यक्ष ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन को एक पत्र दिया गया था। जिसकी अनुमति भी मिल गई है। अब जल्द ही यह सेवा राजधानी लखनऊ के तीमारदारों के लिए भी सहयोगी बनेगी। अध्यक्ष ने बताया कि लखनऊ सेवा का संयोजक समाजसेवी यू पी त्रिपाठी को बनाया गया है। यह सेवा बहराइच की तर्ज पर लखनऊ में भी प्रतिदिन शाम को मात्र 5 रुपये में शुद्ध व सात्विक भोजन उपलब्ध करवाएगी।

इसलिए आया विचारट्रस्ट के अध्यक्ष अमित मित्तल पिछले दिनों अपने मित्र यूपी त्रिपाठी के साथ लखनऊ के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में गए थे तो देखा कि लोग खाने के लिए काफी परेशान थे। तीमारदारों की समस्या को देखते हुए दोनों लोगों ने अन्नरथ चलाने का फैसला लिया, जिससे मरीजों व तीमारदारों को भोजन मिल सके।

इसलिए रखी पांच रुपये कीमतसमाजसेवी संदीप मित्तल ने बताया कि भोजन की कीमत पांच रुपए इसलिए रखा गई है ताकि लोग उतना ही लें, जितने में उनका पेट भर जाए। अगर भोजन फ्री में दिया जाता तो लोग भोजन की कद्र न करके पेट भरने के बाद फेंक देते।

खबरें और भी हैं…

Most Popular