HomeलखनऊLucknow news - बाहुबली पूर्व सांसद की मुश्किलें बढ़ीं: अजीत सिंह हत्याकांड...

Lucknow news – बाहुबली पूर्व सांसद की मुश्किलें बढ़ीं: अजीत सिंह हत्याकांड में धनंजय सिंह की FIR रद्द करने वाली याचिका खारिज, 14 दिन में करना होगा सरेंडर

15 फरवरी को पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में पुलिस ने पूर्व सांसद व बाहुबली नेता धनंजय सिंह को हत्या की साजिश रचने का आरोपी बनाया गया था।

पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपी पूर्व सांसद धनंजय सिंह की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। सोमवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने धनंजय की FIR निरस्त करने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया। अदालत ने उन्हें दो हफ्ते के भीतर सरेंडर करने का आदेश दिया है। बता दें कि इस प्रकरण में फरार चल रहे पूर्व सांसद पर लखनऊ पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा है। पुलिस ने धनंजय को भगौड़ा घोषित करने की तैयारी में है।

फतेहगढ़ जेल से रिहा होते ही फरार हुआ था पूर्व सांसदपूर्व सांसद धनंजय सिंह साल 2017 में जौनपुर के खुटहन थाने में दर्ज पुराने मामले में जमानत कटा कर पांच मार्च को प्रयागराज की MP/MLA कोर्ट में हाजिर हुआ था, जहां से उसे नैनी जेल भेज दिया गया था। लेकिन उसने नैनी जेल में अपनी जान को खतरा बताया। इसके बाद उसे 11 मार्च फतेहगढ़ जेल ट्रांसफर कर दिया गया था। जहां तीन हफ्ते रहने के बाद उसे जमानत मिली। इसके बाद वह गुपचुप तरीके से अपने समर्थकों के साथ निकल गया। तब से पुलिस उसकी तलाश में छापेमारी कर रही है।

वारंट B के जरिए लखनऊ जाएगा माफिया सुनील राठी

प्रभारी निरीक्षक चंद्रशेखर सिंह के मुताबिक अजीत सिंह हत्याकांड में पूर्व सांसद धनंजय सिंह सहित 6 आरोपियों की तलाश की जा रही है। इसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश का माफिया सुनील राठी बागपत जेल में बंद है। जल्द ही उसे वारंट बी के जरिए लखनऊ लाया जाएगा। वहीं पूर्व सांसद धनंजय सिंह, उनके करीबी विपुल सिंह, रवि यादव, प्रदीप सिंह कबूतरा, कुणाल फरार हैं। पुलिस इनकी तलाश में लगी है. पुलिस इन सभी आरोपियों को भगोड़ा घोषित करने के लिए कोर्ट में सोमवार को अर्जी डाली गई है।

मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी ने दिया था बयान

अजीत सिंह हत्याकांड में उसके साथ मौजूद मोहर सिंह ने FIR कराई थी कि आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह और अखण्ड सिंह ने गिरधारी के जरिए हत्या करवाई है। गिरधारी ने पांच शूटरों के साथ अजीत की हत्या की थी। गिरधारी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था। इसके बाद ही पुलिस ने सांसद धनंजय सिंह को गिरधारी के बयान के आधार पर हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोपी बनाया था। इसके साथ ही धनंजय पर एक घायल शूटर राजेश तोमर का लखनऊ और सुल्तानपुर में इलाज कराने में मदद करने का भी आरोप है।

यह है पूरा मामला?

बीते 5 जनवरी 2021 को राजधानी के विभूति खंड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस दौरान अजीत का साथी मोहर सिंह व एक फूड डिलीवरी कंपनी का कर्मचारी घायल हुआ था। इस प्रकरण में आजमगढ़ के बाहुबली कुंटू सिंह, अखंड सिंह के अलावा गिरधारी के खिलाफ नामजद FIR दर्ज की गई थी। पुलिस ने इस शूटआउट में तीन मददगारों को दबोचा था। जबकि शूटर संदीप सिंह को भी पकड़ा जा चुका है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular