Home लखनऊ Lucknow news - बेहमई कांड: बेहमई के राजाराम सिंह भी न्याय की...

Lucknow news – बेहमई कांड: बेहमई के राजाराम सिंह भी न्याय की आस लिए दुनिया छोड़ गए, फूलन गैंग ने 6 भाइयों और भतीजों के साथ 20 लोगों को मार दिया था

कानुपर के ​​​​​​​बेहमई के राजाराम सिंह भी न्याय की आस लिए दुनिया छोड़ गए। फूलन गैंग ने उनके छह भाइयों और भतीजों के साथ गांव के 20 लोगों को गोलियों से भून दिया था।

कानूनी दांव पेंच में ऐसा उलझा कि 39 सालों में भी पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाया

उत्तर प्रदेश में कानुपर के बेहमई के राजाराम सिंह भी न्याय की आस लिए दुनिया छोड़ गए। फूलन गैंग ने उनके छह भाइयों और भतीजों के साथ गांव के 20 लोगों को गोलियों से भून दिया था। जब सारा गांव कांप रहा था राजाराम मुकदमा लिखाने के लिए आगे आए थे, उन्होंने फूलन देवी और मुस्तकीम समेत 14 को नामजद कराते हुए 36 डकैतों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

पूरे देश को दहला देने वाला बेहमई कांड लचर पैरवी और कानूनी दांव पेंच में ऐसा उलझा कि 39 सालों में भी पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाया। देश के इस बहुचर्चित मुकदमे में नामजद अधिकांश डैकतों के साथ ही 28 गवाहों की मौत हो चुकी है। आरोपित मानसिंह, विश्वनाथ व रामकेश मुकदमे में 39 साल से फरार चल रहे हैं।

कुर्की के साथ ही इनके स्थाई वारंट जारी किए गए और फिर मुकदमे से इनकी पत्रावली अलग कर बाकी बचे आरोपितों के खिलाफ सुनवाई पूरी की गई। इनमें डकैत पोसा, भीखा, विश्वनाथ श्याम बाबू ही बचे हैं जिनके खिलाफ फैसले का इंतजार है।

केस डायरी गायब होने से रुक गया था फैसलाकरीब साल भर पहले जब लगा कि अब फैसला होने वाला है। केस डायरी गायब होने से फिर यह रुक गया। साल भर पहले तक मुकदमे की सक्रिय पैरवी करने वाले राजाराम हर सुनवाई में कचहरी पहुंचते थे और यह कहते थे कि जिंदा रहते फैसला आ जाए तो सुकून मिल जाएगा, पर ऐसा न हो सका। 39 साल तक इंतजार करते-करते आखिर रविवार को उनकी भी मौत हो गई।

Input – Bhaskar.com

Most Popular