Home लखनऊ Lucknow news - भाई-दूज का पर्व: हेलो... हम शालू... हां बिटिया पांव...

Lucknow news – भाई-दूज का पर्व: हेलो… हम शालू… हां बिटिया पांव छुई… टीका भेज दिए हैं लगा लेना, तुमको जल्दी छुड़वा लेंगे; UP की जेलों में आज ऐसे ही गूंजे बहनों के संदेश

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यह फोटो फतेहगढ़ जेल की है। यहां फोन से भाई दूज पर बात करती बहन।

कोरोनावायरस के चलते इस बार भाई-दूज पर्व पर जेलों में निरुद्ध लोगों को उनके परिजनों से नहीं कराई गई मुलाकातडीजे के निर्देश पर फोन से बहनों की कराई गई बात, जेलों में प्री-रिकॉर्डेड संदेश भी सुनाए गए तो लोगों की भर आई आंखें

हेलो… हां हम शालू बोल रहे हैं… हां, बिटिया पांव छुई… रचना (टीका करने का सामान) भेज दिए हैं…टीका लगा लेना। परेशान ना होना। जल्दी निकाल लिया जाएगा…। दो लोगों के बीच हुए यह संवाद का नजारा सोमवार को भाई दूज के पर्व पर उन्नाव जेल का है। कोरोना वायरस संक्रमण न फैलने पाए, इसके लिए इस बार भाई-दूज पर्व पर जेलों में निरुद्ध लोगों को उनके परिजनों से मिलने की मनाही थी। कारण हाल ही में प्रदेश की 71 जेलों में कोरोना का संक्रमण फैला था। ऐसे में डीजी जेल आनंद कुमार के निर्देश पर जेल प्रबंधन ने बहनों को उनके भाईयों से फोन पर बात कराई, इसके अलावा तमाम जेलों में बहनों के प्री-रिकॉर्डेड संदेश भी पब्लिक एड्रेस सिस्टम से उनके भाईयों को सुनाए गए।

अंबेडकरनगर जेल में दिवाली मनाते बंदी।

अंबेडकरनगर जेल में दिवाली मनाते बंदी।

अंबेडकरनगर जेल में पहली बार मनाई गई दीपावली

अंबेडकरनगर जेल में पहली बार दिवाली मनाई गई। यह जेल हाल ही में बनकर तैयार हुई है। जेल सुपरिटेंडेंट हर्षिता मिश्रा का कहना है कि, भाई दूज पर महिलाएं अपने भाइयों को रचना और टिका भेज रही हैं। बहनों के द्वारा जेल में बंद भाई की लंबी आयु की प्रार्थना के साथ मार्मिक अपील की गई। उन्होंने कहा कि, देश में भाइयों की एक बड़ी आबादी सीमित दायरे वाली दीवारों में बंद है। उन्हें अनुशासित रखते हुए जिम्मेदार नागरिक बना कर घर गांव वापस लौटाने की बड़ी जिम्मेदारी जेल प्रशासन के जिम्मे है। आज कोरोना काल में बंदियों की बहनों से मुलाकात बंद है। लेकिन बंदियों के समाजीकरण, उन्हें मानव होने की गरिमा तथा देश गांव समाज उनकी कुशल वापसी के प्रति सजग है। इसलिए फोन से बात करके उनके सकुशल होने के साथ भाई दूज मनाया जा रहा है।

बंदियों द्वारा मनाई गई रंगोली।

बंदियों द्वारा मनाई गई रंगोली।

यूपी की जेलों में यह पहली बार व्यवस्था

डीजी जेल आनंद कुमार ने बताया कि भैया दूज के अवसर पर बंदियों की बहनों के रिकार्डेड सन्देश जेल रेडियो और जेलों में लगे पब्लिक एड्रेस सिस्टम पर सुनाए जाने की अभिनव व्यवस्था का अनुपालन सभी जेलों में किए जाने के निर्देश दिए थे। पहली बार हो रहा है, जिसके अच्छे परिणाम आए हैं। जेलों में बंदियों की बहनों के प्री रिकार्डेड सन्देश सुनाए जा रहे हैं। रिकार्डेड संदेश सुनकर आंखें सील जाती हैं। दिल भर आता है।

Input – Bhaskar.com

Most Popular