HomeलखनऊLucknow news- महंगा हुआ पेट्रोल तो थोड़ा खरीदिए, अच्छा विकल्प है, अगर...

Lucknow news- महंगा हुआ पेट्रोल तो थोड़ा खरीदिए, अच्छा विकल्प है, अगर घोड़ा खरीदिए…, घोंघा बसंत सम्मेलन में खूब लगे ठहाके

महंगा हुआ पेट्रोल तो थोड़ा खरीदिए, अच्छा विकल्प है, अगर घोड़ा खरीदिए…, हास्य गद्यकार राजेंद्र पंडित ने जब समसामयिक विषय महंगाई पर यह हास्य पंक्तियां सुनाई तो सभागार में मौजूद सभी श्रोता ठहाके मारकर हंसने लगे। मौका था चारबाग स्थित रवीन्द्रालय में आयोजित घोंघा बसंत सम्मेलन का। राजधानी में एक अप्रैल को मूर्ख दिवस पर पिछले 60 वर्षों से रंगभारती की ओर से इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। यह कार्यक्रम अपने अजीबोगरीब सम्मान समारोह व उपाधियों के लिए भी काफी चर्चित है।

डोनाल्ड ट्रंप से लेकर सचिन वाजे तक को मिला सम्मान

इस अवसर पर डोनाल्ड ट्रंप, अनिल देशमुख, सचिन वाजे, शरद पवार, तीरथ सिंह रावत आदि को मूर्ख रत्न का राष्ट्रीय शिखर सम्मान दिया गया। जबकि ममता बनर्जी को ढेंचू सम्मान से नवाजा गया। वहीं हास्य कवि एवं हास्य गद्यकार राजेन्द्र पंडित को बेढब बनारसी रंगभारती हास्य व्यंग्य शिखर सम्मान से सम्मानित किया गया। इससे पहले समारोह का उद्घाटन मूर्खिस्तान के प्रधानमंत्री (सचमुच के गधे) ने किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि आज अपनी इतनी बड़ी बिरादरी में आकर उन्हें बड़ी प्रसन्नता हो रही है। उन्हें बहुत गर्व है कि लखनऊ में उनके इतने रिश्तेदार मौजूद हैं।

उद्धव ठाकरे संग हुआ कंगना का विवाह

इस अवसर पर विभूतियों का गंधर्व विवाह भी कराया गया। जिसमें अखिलेश का उमा के साथ, उद्धव ठाकरे का अभिनेत्री कंगना के साथ, हास्य कवि कमलेश द्विवेदी का मायावती के साथ, हास्य रचनाकार राजेंद्र पंडित का कैटरीना कैफ के साथ और श्याम कुमार का डायमंड डेयरी कॉलोनी की जमादारिन के साथ गंधर्व विवाह हुआ।

बही हास्य की बयार

घोंघा बसन्त सम्मेलन में हास्य रस की बयार बही। विकास बौखल ने ‘हिन्द वाले शेर पाक जाके जो दहाड़ देंगे, गीदड़ तुम्हारे ये बेचारे मर जाएंगे। दल एंटी-रोमियो का भेज देंगे योगीजी तो सानिया के देवर कुंवारे मर जाएंगे…’ सुनाकर लोगों को खूब हंसाया। अशोक बेशर्म ने ‘भीख मांगे जो अदाकारी से, बच के रहना तुम उस भिखारी से, आंख में गर बसा सोने का हिरण, फिर तो धोखा है ब्रम्हचारी से…’ कमलेश द्विवेदी ने पत्नी बोली- अर्धांगिनी हूं तो इंसाफ करो ना, सारा काम कराते मुझसे तुम भी हाफ करो ना, पहले तुम बाहर रहते थे कोई बात नहीं थी, अब घर में रहते हो तो फिर बर्तन साफ करो ना… सुनाकर खूब वाहवाही लूटीं।

समीर शुक्ल ने मोटरगाड़ी, टीवी, मोबाइल, गैस चूल्हा, बिन दहेज ब्याहे में नेग पाए दूल्हा, दुलहिन के आगे है फेल कैटरीना… अमित अनपढ़ ने अपने पिता और भाई को ही मानती है तोप, देशी कट्टे-जैसा पति को समझती है…, जमुना प्रसाद उपाध्याय ने जीवनभर सच्चाई मेरे साथ रही, दुनिया की रुसवाई मेरे साथ रही… नरकंकाल ने ये नजरे मिलाने के लायक नहीं हो, ये सर भी उठाने के लायक नहीं हो, लगा मास्क चेहरे पर जब से तुम्हारे, ये मुंह भी दिखाने के लायक नहीं हो… सुनाकर तालियां बटोरीं। श्याम कुमार ने मतलब निकल गया तो हमें जानते नहीं, श्रीमान जी अब तो हमें पहचानते नहीं, कोरोना से बचने का फारमूला है उनका, पी जाते हैं वो चाय, कभी छानते नहीं… सुनाकर सभी को ठहाके मारने पर मजबूर कर दिया।

Most Popular