HomeलखनऊLucknow news - मुख्तार की एंबुलेंस का UP कनेक्शन: बाराबंकी के ARTO...

Lucknow news – मुख्तार की एंबुलेंस का UP कनेक्शन: बाराबंकी के ARTO ने मऊ में तैनात महिला डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज कराया; फर्जी पते पर कराया था एंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन

मुख्तार अंसारी इसी एबुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेश हुआ था। - Dainik Bhaskar

मुख्तार अंसारी इसी एबुलेंस से मोहाली कोर्ट में पेश हुआ था।

31 मार्च को पंजाब के मोहाली कोर्ट में पेशी के दौरान मुख्तार ने एंबुलेंस का किया था इस्तेमालएंबुलेंस का रजिस्ट्रेशन बाराबंकी का, फर्जी मिले दस्तावेज, 3 साल पहले खत्म हो चुका फिटनेस

पंजाब की रोपड़ जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी द्वारा इस्तेमाल की जा रही एम्बुलेंस को लेकर उत्तर प्रदेश में कार्रवाई शुरू हो गई है। एम्बुलेंस का बाराबंकी कनेक्शन निकलने के बाद परिवहन विभाग व स्वास्थ्य विभाग द्वारा दस्तावेजों की पड़ताल की गई। इसमें पाया गया कि परिवहन विभाग में मऊ स्थित श्याम संजीवनी हॉस्पिटल का लेटर और डॉक्टर अलका राय का वोटर कार्ड लगाया गया था। लेकिन, रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट व मकान का पता फर्जी पाया गया।

एम्बुलेंस का रजिस्ट्रेशन डॉक्टर अलका राय के नाम दर्ज है, इसलिए बाराबंकी के ARTO ने उनके खिलाफ नामजद केस दर्ज कराया है। यह केस नगर कोतवाली में IPC की धारा 419, 420, 467, 468 और 471 की धाराओं में दर्ज हुआ है। पुलिस ने मामले में जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

पुलिस अधीक्षक ने क्या कहा?

पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बताया कि बीते कुछ दिनों से मीडिया के माध्यम से एक एम्बुलेंस के बारे में सूचना मिल रही थी। इसका वाहन संख्या UP 41 AT 7171 है। यह वाहन बाराबंकी परिवहन कार्यालय में पंजीकृत मिली। परिवहन कार्यालय और बाकी संबंधित विभागों से इस एम्बुलेंस के संबंध में सूचना इकट्ठा की गई। इसमें सामने आया कि इस वाहन को रजिस्टर्ड कराने के लिए जो कागजात जैसे मतदाता पहचान पत्र, पैन कार्ड और दूसरे डाक्यूमेंट्स सभी फर्जी निकले। यह डाक्यूमेंट जिस पते पर दर्ज थे वह पता भी नहीं मिला। इसके बाद मामले में डॉ. अलका राय पर केस दर्ज करके सभी संबंधित लोगों के खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी।

डॉक्टर अलका राय।

डॉक्टर अलका राय।

नाम आने पर डॉक्टर अलका ने दी थी सफाई

डॉक्टर अलका राय ने गुरुवार को कहा था कि उनका मऊ में श्याम संजीवनी हॉस्पिटल के नाम से उनका एक अस्पताल है, जबकि एम्बुलेंस का रजिस्ट्रेशन बाराबंकी से किया गया है। जहां उनका कोई अस्पताल या संस्था नहीं है। यदि कोई अस्पताल है भी तो उससे मेरा कोई लेना-देना नहीं है। साल 2013 में मऊ सदर से विधायक मुख्तार अंसारी के प्रतिनिधि द्वारा अस्पताल के नाम से एम्बुलेंस संचालित करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों पर हस्ताक्षर आदि मांगे गए थे, जिसको उनके अस्पताल के निदेशक ने पूरा किया था। उसके बाद वह एम्बुलेंस कहां गया, कहां आया इसकी जानकारी नहीं है। अब मीडिया से पता चला कि उसका इस्तेमाल मुख्तार पंजाब में कर रहा है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular