HomeलखनऊLucknow news - लखनऊ में प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत: मेयो...

Lucknow news – लखनऊ में प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत: मेयो अस्पताल ने तीमारदारों को फोन कर कहा- 20 मिनट में मरीजों को हायर सेंटर ले जाओ; BJP सांसद ने ड्रग इंस्पेक्टर साधा निशाना

लखनऊ में प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत अब मरीजों की जान पर भारी पड़ रही है। - Dainik Bhaskar

लखनऊ में प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत अब मरीजों की जान पर भारी पड़ रही है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के दो बड़े प्राइवेट अस्पतालों के बाहर ऑक्सीजन ना होने की नोटिस चिपका दी गई है। मामला टीएस मिश्रा, मेयो और मेकवेल अस्पताल का है। ऑक्सीजन की किल्लत न होने के चलते टीएस मिश्रा अस्पताल से मंगलवार रात करीब 50 मरीजों को KGMU शिफ्ट किया गया है। वहीं, मेयो अस्पताल प्रबंधन ने बुधवार की दोपहर एक बजे के आसपास तीमारदारों को फोन कर कहा कि वे अपने-अपने मरीजों को हायर सेंटर ले जाएं। इसके लिए सिर्फ 20 मिनट का समय दिया गया। अचानक इस कॉल से तीमारदारों में अफरा तफरी मच गई। तीमार भागते-दौड़ते अस्पताल के बाहर पहुंचे, जहां रोते-बिलखते हुए अपनी बेबसी और गुस्सा जाहिर किया।

हालांकि करीब पौने दो घंटे के बाद ऑक्सीजन सिलेंडर आए तो तीमारदारों ने राहत की सांस ली। अस्पताल प्रबंधन ने अपनी नोटिस में लिखा है कि मुख्यमंत्री योगी और लखनऊ के CMO से कई बार ऑक्सीजन मांगने के बाद भी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है।

इस बीच मोहनलालगंज से BJP के सांसद कौशल किशोर ने लखनऊ के ड्रग विभाग पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सांसद ने कहा कि ड्रग इंस्पेक्टर ने प्राइवेट अस्पतालों को ऑक्सीजन सिलेंडर देने पर रोक लगा रखी है। कहा है कि केवल सरकारी अस्पतालों में ही गैस सप्लाई की जाए।

KGMU ने की मदद, शिफ्ट कराए मरीजकिंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (KGMI) के प्रवक्ता ने कहा कि 20 अप्रैल को जब टीएस मिश्रा और मेयो कॉलेज में अचानक ऑक्सीजन का संकट उत्पन्न हुआ है। टीएस मिश्रा कॉलेज को 70 जंबो ऑक्सीजन सिलिंडर दिए गए। मेयो कॉलेज को भी 10 जंबो ऑक्सीजन सिलिंडर की आपूर्ति की गई। स्थिति की विकटता को देखते हुए दोनों संस्थानों के रोगियों को KGMU के कोविड अस्पताल में शिफ्ट कर उपचार भी दिया गया। शिफ्ट हुए रोगियों में 8 रोगियों को वेंटिलेटर की आवश्यकता थी, इन समस्त रोगियों का अतिशीघ्र उपचार सुनिश्चित किया गया।

मेयो अस्पताल का लेटर।

मेयो अस्पताल का लेटर।

BJP सांसद ने कहा- ताबड़तोड़ मौतें ऑक्सीजन की कमी से हो रही

भाजपा सांसद कौशल किशोर ने प्राइवेट अस्पतालों में मरीज मर रहे हैं। ऑक्सीजन गैस प्लांट के दो मालिकों ने मुझसे बताया है कि ड्रग इंस्पेक्टर ने प्राइवेट अस्पतालों को ऑक्सीजन सिलेंडर न देने की बात कही है। सांसद ने कहा कि सैकड़ों लोग मुझे रोज फोन करके ऑक्सीजन गैस की डिमांड कर रहे हैं। प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट मरीजों को अस्पताल के मालिक उन्हें अस्पताल से भगा रहे हैं। लखनऊ में हो रही ताबड़तोड़ मौतें ऑक्सीजन गैस ना मिलने की वजह से हो रही है। इस संबंध में जब आज मैंने चार्ज लिए ड्रग इंस्पेक्टर से वार्ता की तो उन्होंने कहा कि मैंने किसी को मना नहीं किया। इसलिए ऑक्सीजन गैस प्लांट के मालिकों से मेरा आग्रह है कि प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन गैस की सप्लाई न रोकें। ऑक्सीजन की सप्लाई डिमांड के अनुसार पूरी करें। ऑक्सीजन गैस के अभाव में मरने वाले लोगों की जान बचाएं।

मेयो अस्पताल के बाहर बिलखती महिला।

मेयो अस्पताल के बाहर बिलखती महिला।

लखनऊ में सिर्फ 4 घंटे की ऑक्सीजन बची

उत्तर प्रदेश की सरकार कह रही है कि ऑक्सीजन की कोई दिक्कत नहीं है। फिलहाल राजधानी लखनऊ के मेयो, टीएस मिश्रा, मेकवेल प्राइवेट हॉस्पिटल में नोटिस चिपका दिए हैं कि हमारे पास कोविड-19 के इलाज करने के लिए ऑक्सीजन नहीं है। मुझे ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जाए। जानकारी मिली है कि लखनऊ में 4 घंटे की ऑक्सीजन सिलेंडर प्राइवेट हॉस्पिटल में बचे हैं जो भी अन्य ऑक्सीजन सिलेंडर है वह सरकारी हॉस्पिटलों में दिए जा रहे हैं।

बोकारो भेजा गया टैंकर।

बोकारो भेजा गया टैंकर।

बोकारो से आएगा ऑक्सीजन टैंकर

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ऑक्सीजन की किल्लत को दूर करने का निर्देश दिया है। ऐसे में ट्रेन के जरिए टैंक बोकारो भेजे जा रहे हैं। गुरुवार को बोकारो से ऑक्सीजन भरकर शुक्रवार को लखनऊ आएंगे। CM के निर्देश पर तेजी से उपलब्धता बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। ऑक्सीजन लाने के लिए सड़क, रेल मार्गों का इस्तेमाल, मुरादाबाद से बाई रोड कल रात ऑक्सीजन टैंकर पहुंचेगा।

खबरें और भी हैं…

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular