HomeलखनऊLucknow news - लापरवाही से एक दिन में 5 मौतें: तीन घंटे...

Lucknow news – लापरवाही से एक दिन में 5 मौतें: तीन घंटे तक पिता को लेकर इलाज के लिए भटकता रहा बेटा-नहीं मिला इलाज; तड़प-तड़प कर हुई मौत, बेटे ने वायरल किया वीडियो

यूपी के रायबरेली में एक मरीज न� - Dainik Bhaskar

यूपी के रायबरेली में एक मरीज न�

उत्तर प्रदेश में रायबरेली जिले के एल-2 हास्पिटल लालगंज में एक बेटे के सामनें घंटों एक पिता एंबुलेंस में तड़पता रहा, और अंत में बेटे के सामनें उसने दम तोड़ दिया। पिता के गुजर जाने के बाद बेटे ने पूरे सिस्टम को बेनकाब करने की ठानी और वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। बताया जा रहा है कि ये दर्दनाक वाकया रायबरेली के भदोखर थाना क्षेत्र के सुलतानपुर आइमा निवासी अरविंद पाण्डेय का है। अरविंद बताते हैं कि आज (शुकवार) को सुबह 9 बजे वो पिता श्याम सुंदर पाण्डेय को एंबुलेंस से लेकर लालगंज स्थित रेलकोच फैक्ट्री में बने एल-2 हास्पिटल में पहुंचा था।

उसने पिता के इलाज के लिए काफी जद्दोजहद किया, डाक्टरों के आगे मिन्नतें की लेकिन किसी एक ने नही सुना। अंत में दोपहर सवा बारह बजे इलाज के अभाव में तड़प-तड़प कर उसके पिता ने दम तोड़ दिया। जिसके बाद उसने वीडियो बनाकर वायरल किया। वायरल वीडियो में अरविंद कह रहा है कि आज ही एल-3 हास्पिटल में पांच लोगों ने इलाज के अभाव में दम तोड़ा है, और सभी लाशे एंबुलेंस में हैं।

BJP M केLC दिनेश सिंह ने डीएम रायबरेली को लिखा पत्रएंबुलेंस आदि के लिए आज ही बीजेपी एमएलसी दिनेश सिंह ने डीएम रायबरेली वैभव श्रीवास्तव को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने लिखा कि, कोरोना महामारी से अपने तंत्र के साथ आप रायबरेली वासियों को बचाने के लिए लड़ रहे हैं। इसके लिए आप व आपके संपूर्ण सिस्टम को धन्यवाद देता हूं। अपेक्षा करता हूं कि इस महामारी की लड़ाई में मैं आपके किसी काम आ सकूं तो खुशी होगी। दिनेश सिंह ने आगे लिखा कि, मैं भी इस बीमारी का शिकार हुआ, 20 दिन के बाद अभी निगेटिव हुआ हूं। फोन पर जनपद वासियों का दर्द सुन-सुन कर बहुत आहत हूं। लोग आक्सीजन के लिए सुबह से शाम तक भटकते हैं। रात तक उनके परिजन दम तोड़ देते हैं।

कहा कि आपके पास डाटा होगा, जानकारी हमें भी है। उन्होंने आगे लिखा कि, यदि जनपद में आक्सीजन का अभाव है, तो इसे सावर्जनिक करें और निर्धारित करें की जरूरतमंद लोग उस स्थान पर संपर्क कर सकें। एमएलसी ने डीएम को लिखा, 500 बेड के अस्थायी अस्पताल जीआईसी की सेकेंड फील्ड पर बनाए। अस्पताल में कूलर, पंखा, लाइट की व्यवस्था पेशकश की है। आने वाले व्यय की आप चिंता न करें, अगर मेरी क्षमता से अधिक होगा तो मैं झोली लेकर रायबरेली में निकलूंगा तो सब पूरा हो जाएगा।

खबरें और भी हैं…

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular