HomeलखनऊLucknow news- हनी ट्रैपिंग गिरोह की कार भी फर्जीवाड़े से खरीदी गई...

Lucknow news- हनी ट्रैपिंग गिरोह की कार भी फर्जीवाड़े से खरीदी गई थी

लखनऊ। बाजारखाला पुलिस ने सोमवार तड़के हनी ट्रैपिंग कर लोगों से अवैध वसूली करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। इस गिरोह के चार सदस्यों को गिरफ्तार किया था। इनके पास से मिली कार भी पूरी तरह से फर्जी तरीके से खरीदी गई थी। कार रिजवाना उर्फ रिया के नाम से खरीदी गई है। इसके लिए फर्जी पते का प्रयोग किया गया। इसका खुलासा जांच में हुआ है। एडीसीपी पश्चिम राजेश श्रीवास्तव के मुताबिक, पुलिस इन आरोपियों की कस्टडी रिमांड लेने की तैयारी कर रही है। ताकि ठगे गए लोगों के बारे में जानकारी के साथ गिरोह के अन्य सदस्यों को भी गिरफ्तार किया जा सके।

एडीसीपी पश्चिम राजेश श्रीवास्तव के मुताबिक, सोमवार को बाजारखाला पुलिस ने हनी ट्रैपिंग के जरिए लोगों से वसूली करने वाले गिरोह का खुलासा किया। इस गिरोह के चार सदस्यों को पुलिस ने पकड़ा था। इसमें मुंबई के ठाणे स्थित आकाश गंगा रोड निवासी सोहेल राजपूत, हाजी सुलेमान मोहल्ला रोड राबोड़ी निवासी फिरोज शेख, विकासनगर साई प्लाजा की रिजवाना खान उर्फ रिया खान और भाईखला हंसरोड ठाणे की नेहा मजहर अब्बास सैय्यद शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक आरोपियों के पास से एक लग्जरी कार बरामद हुई। जिस पर अशोक स्तंभ का स्टीकर लगा था। साथ ही विधायक और पुलिस का मोनोग्राम लगा था। लोगों को अर्दब में लेने के लिए कार पर हूटर भी लगवा रखा था।

फर्जीवाड़ा कर ली थी कार

एडीसीपी पश्चिम राजेश श्रीवास्तव के मुताबिक पुलिस ने जो कार बरामद की थी। वह रिजवाना खान उर्फ रिया के नाम से है। रिजवाना ने इस कार को खरीदने के लिए फर्जी दस्तावेज का प्रयोग किया था। इस फर्जीवाड़े में बैंक के कर्मचारियों की भी भूमिका है। पुलिस ने जब कार के रजिस्ट्रेशन पेपर की जांच की। उसमें दर्ज पते के बारे में पड़ताल शुरू की। तो वहां कभी न तो रिजवाना खान रहती है। न ही कभी किराए पर भी रहा है। पुलिस के मुताबिक इस फर्जीवाड़े में बैंक के कर्मचारियों की भी भूमिका हैं। इसकी पड़ताल की जा रही है।

आरोपियों को रिमांड पर लेेने की तैयारी

पुलिस के मुताबिक आरोपियों से सही से पूछताछ नहीं हो सकी थी। उनकी जल्द ही कस्टडी रिमांड ली जाएगी। ताकि उनके द्वारा बनाए गये शिकार लोगाें के बारे में जानकारी हो सके। साथ ही यह गिरोह लखनऊ और मुंबई के अलावा कहां नेटवर्क फैला था। गिरोह में कितने और सदस्य हैं। इन सब की जानकारी के लिए रिमांड पर लिया जाएगा। बुधवार को सेंट्रल बार एसोसिएशन का चुनाव होने के कारण अर्जी नहीं पड़ सकेगी। बृहस्पतिवार को अर्जी रिमांड के लिए डाली जाएगी।

लखनऊ में दो और लोगों को बनाया था शिकार

पुलिस के मुताबिक, हनीट्रैप में फंसाकर वसूली करने वाले गिरोह के शिकार बने लखनऊ के एक व्यापारी समेत दो लोगों ने मंगलवार को पुलिस से संपर्क किया। इन दोनों से गिरोह की लड़कियों ने तीन लाख रुपये वसूल लिये थे। बताया जाता है कि ये लोग लड़की के साथ मुंबई भी गये थे। पुलिस का दावा है कि इस गिरोह ने आस पास के जिलों में 35 से 40 लोगों से इस गिरोह ने अवैध तरीके से हनी ट्रैपिंग कर वसूली की है। मंगलवार को इस गिरोह के पकड़े जाने की खबर फैली तो एक व्यापारी समेत दो लोग पुलिस के पास पहुंचे। बाजारखाला कोतवाली पर इन लोगों ने पुलिस को बताया कि उनसे भी रुपये वसूले गये है।

Most Popular