HomeलखनऊLucknow news - हाथरस केस के गवाहों को धमकाने का मामला: मायावती...

Lucknow news – हाथरस केस के गवाहों को धमकाने का मामला: मायावती ने राज्य सरकार की कार्यशैली पर उठाए सवाल, कहा- UP में अपराधियों का राज, न्याय पाना अति कठिन

बसपा प्रमुख मायावती। - Dainik Bhaskar

बसपा प्रमुख मायावती।

14 सितंबर को बूलगढ़ी गांव की एक युवती के साथ कथित बलात्कार हुआ था15 दिन बाद 29 सितंबर को पीड़िता ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था

हाथरस कांड के पीड़ित परिवार के हाईकोर्ट में दाखिल हलफनामे पर उत्तर प्रदेश में सियासत शुरू हो गई। बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सोमवार को सोशल मीडिया के जरिए योगी सरकार पर निशाना साधा है। मायावती ने लिखा कि हाथरस कांड के पीड़ित परिवार, उनके वकील व गवाहों को धमकाने का मामला बेहद गंभीर है। राज्य सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अपराधियों का राज है। पीड़ितों को न्याय कैसे मिलेगा?

यूपी सरकार फिर कठघरे में

मायावती ने लिखा कि यूपी के अति-दुःखद व शर्मनाक हाथरस गैंगरेप के पीड़ित परिवार को न्याय पाने में जिन कठिनाईयों का लगातार सामना है वह जग-जाहिर है। लेकिन उस संबंध में जो नए तथ्य अब कोर्ट में उजागर हुए वे पीड़ितों को न्याय दिलाने के मामले में सरकार की कार्यशैली पर पुनः गंभीर प्रश्न खड़े करते हैं।

हाथरस कांड में नए तथ्यों का हाईकोर्ट द्वारा संज्ञान लेकर गवाहों को धमकाने आदि की जांच का आदेश देने से यूपी सरकार फिर कठघरे में है व लोग सोचने को मजबूर कि पीड़ितों को न्याय कैसे मिलेगा? यह आम धारणा कि यूपी में अपराधियों का राज है व न्याय पाना अति-कठिन, क्या गलत है?

हाईकोर्ट ने 15 दिन के भीतर तलब की रिपोर्टदरअसल, हाथरस कांड के पीड़ित पक्ष ने 5 मार्च को CBI की चार्जशीट पर चल रही सुनवाई के दौरान आरोपित पक्ष के साथ उनके वकीलों पर धमकाने का आरोप लगाते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में हलफनामा दाखिल किया था। हलफनामे में वकील सीमा कुशवाहा को मिली धमकियों का भी जिक्र है। कहा गया है कि 5 मार्च को हाथरस जिला कोर्ट में इस प्रकरण की सुनवाई चल रही थी। तभी तरुण हरि शर्मा नाम का वकील कोर्टरूम में घुस गया। उसने पीड़ित पक्ष की वकील के साथ उग्र होने की कोशिश की। वकील शराब के नशे में लग रहा था। जिस पर जस्टिस राजन राय व जस्टिस जसप्रीत सिंह ने जिला जज व CRPF को 15 दिन में रिपोर्ट भेजने के लिए कहा है। कोर्ट ने यह भी कहा कि रिपोर्ट आने पर ट्रायल कहीं और ट्रांसफर करने पर भी विचार करेगा।

क्या है घटना…

14 सितंबर को उत्तर प्रदेश के हाथरस में एक दलित लड़की के साथ कुछ युवकों ने कथित तौर पर गैंगरेप किया और बाद में उसके साथ मारपीट की। लड़की की हालत गंभीर होने पर उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां 29 सितंबर को उसकी मौत हो गई।

पुलिस ने रातों-रात कर दिया था अंतिम संस्कार

आनन-फानन में लड़की के शव को हाथरस लेकर आई पुलिस ने बिना किसी परिवार के सदस्य की मौजूदगी के अंतिम संस्कार कर दिया था। इसके बाद इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया और प्रदेश सरकार की चौतरफा फजीहत हुई। बाद में योगी सरकार ने मामले की निष्पक्ष जांच के लिए CBI जांच की सिफारिश की। CBI चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। जिसमें पीड़िता के बयान को सच माना गया। चारों आरोपियों पर गैंगरेप के बाद हत्या का आरोप है।

खबरें और भी हैं…

Most Popular