HomeलखनऊLucknow news - UP में कोरोना से बेकाबू होते हालात: डिप्टी CM...

Lucknow news – UP में कोरोना से बेकाबू होते हालात: डिप्टी CM दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी संक्रमित; PFI एजेंट कप्पन भी पॉजिटिव मिला, अलीगढ़ में 5 मरीजों की मौत पर हंगामा

कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन किल्लत एक बड़ी समस्या है। इस समस्या से निपटने के लिए योगी सरकार ने मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह व सुरेश खन्ना को जिम्मेदारी सौंपी है। - Dainik Bhaskar

कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश में ऑक्सीजन किल्लत एक बड़ी समस्या है। इस समस्या से निपटने के लिए योगी सरकार ने मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह व सुरेश खन्ना को जिम्मेदारी सौंपी है।

कोरोना की दूसरी लहर उत्तर प्रदेश पर भारी पड़ रही है। वर्तमान में 2.42 लाख से ज्यादा ऐसे मरीज हैं, जिनका इलाज चल रहा है। बीते 24 घंटे में रिकॉर्ड 33,106 संक्रमित मिले और 187 की मौत हुई। इसके बाद मौत का आंकड़ा 10 हजार को पार कर गया है। इस बीच ऑक्सीजन की किल्लत का संकट लोगों पर भारी पड़ रहा है। मुख्यमंत्री योगी ने इस संबंध में नई गाइडलाइन जारी की है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अति गंभीर परिस्थितियों को छोड़कर किसी भी इंडिविजुअल व्यक्ति को ऑक्सीजन की आपूर्ति न की जाए। केवल संस्थागत आपूर्ति होगी। ऑक्सीजन रीफिलिंग केंद्रों पर सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम हों और हॉस्पिटल के अतिरिक्त इंडीविजुअल आपूर्ति के लिए ऑक्सीजन देते समय डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन, आधार कार्ड का विवरण नोट किया जाए।

उधर, प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा और उनकी पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव हो गई हैं। मथुरा जेल में बंद PFI एजेंट सिद्दीकी कप्पन भी संक्रमित मिला है। वहीं, अलीगढ़ में बुधवार की शाम एक अस्पताल के ICU में भर्ती 5 मरीजों की मौत हो गई। मृतकों के परिजनों का आरोप है कि मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी के चलते हुई। इस पर देर रात तक अस्पताल में हंगामा हुआ।

परिजनों का आरोप- मौत के बाद मंगाए गए सिलेंडर

दरअसल, अलीगढ़ के धनीपुर मंडी के पास एसजेडी मेमोरियल कोविड-19 अस्पताल में 40 मरीजों को भर्ती करने की सुविधा है। यहां पर कोविड संक्रमित मरीजों को उपचार चल रहा है। बुधवार की शाम कुछ ही घंटों के अंदर 5 मरीजों की मौत हो गई। मौत की जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई। मृतकों के परिजनों ने अस्पताल के बाहर हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर अपर सिटी मजिस्ट्रेट कुंवर बहादुर सिंह पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए और लोगों को समझाने की कोशिश की। लोगों का आरोप था कि यहां पर ऑक्सीजन की कमी थी, जिससे मरीजों की मौत हुई। ऑक्सीजन के सिलेंडर मरीजों की मौत के बाद तत्काल मंगवाए गए हैं। इस पर अपर सिटी मजिस्ट्रेट से बात करने की कोशिश की गई तो वह कुछ भी नहीं बोले और मामले में जांच की बात कहते रहे। उनका कहना था कि ऑक्सीजन के 40 सिलेंडर अभी भी यहां पर रखे हुए हैं।

मृतकों में जयगंज की 54 साल की सरिता रानी, अकराबाद के रहने वाले 30 साल के मुकेश, मथुरा में प्राथमिक शिक्षक के पद पर तैनात महेंद्र नगर निवासी 50 साल के अनिल कश्यप, सिकंदराराऊ के शिक्षामित्र 50 साल के जयवीर और ललित प्रसाद शामिल है। मृतकों के परिजनों का यह भी आरोप है कि अस्पताल में आनन फानन में सिलेंडर मरीजों की मौत के बाद मंगाए गए।

हंगामा करते तीमारदारों को समझाते प्रशासनिक अधिकारी।

हंगामा करते तीमारदारों को समझाते प्रशासनिक अधिकारी।

फेफड़े में ज्यादा संक्रमण से गई जान

अस्पताल के संचालक डॉक्टर संजीव शर्मा ने मरीजों की मौत ऑक्सीजन की कमी से होने का इंकार किया है। उनका कहना है कि ICU में और भी मरीज हैं, लेकिन उन पर प्रभाव नहीं पड़ा। जिन पांच मरीजों की मौत हुई है, वे फेफड़े से ज्यादा संक्रमित थे।

कोरोना अपडेट्स….

मथुरा जेल में बंद पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) एजेंट सिद्दीक कप्पन कोरोना संक्रमित हो गया है। उसे इलाज के लिए केएम अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। कप्पन को हाथरस कांड के बाद UP में दंगों की साजिश रचने के आरोप में मथुरा के मांट टोल प्लाजा से बीते साल 5 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। बता दें कि मथुरा जेल में अब तक 38 कैदी संक्रमित हो चुके हैं।प्रदेश के डिप्टी CM दिनेश शर्मा ने बताया कि वे और उनकी पत्नी होम आइसोलेशन हैं। डॉक्टरों के परामर्श का पूर्णतः पालन कर रहा हूं। उन्होंने अपील की है कि पिछले कुछ दिनों में जो लोग उनके संपर्क में आए हैं, वो भी जांच करा लें।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना संक्रमित कर्मियों को 28 दिन पेड लीव देने का ऐलान किया है। इस आदेश के दायरे में निजी कर्मियों को भी लाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि किसी दुकान, कंपनी में यदि 10 से ज्यादा लोग काम करते हैं तो उन्हें कोविड बचाव के तरीके मेट गेट पर डिसप्ले करना होगा।

लखनऊ में बलरामपुर अस्पताल के निदेशक हटेलखनऊ में कोरोना संकट से निपटने के लिए अस्पतालों की स्थिति कमजोर होती जा रही है। इसके मद्देनजर बलरामपुर अस्पताल के निदेशक रहे CMS डॉक्टर राजीव लोचन को उनके पद से हटा दिया गया है। वे 10 अप्रैल को कोरोना संक्रमित हो गए थे। अब उनकी जगह डॉक्टर संतोष पांडेय को बलरामपुर अस्पताल का निदेशक बनाया गया है।

खबरें और भी हैं…

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular