यूपीएससी की परीक्षा देश के सबसे कठिन परीक्षा में एक मानी जाती है. हर साल लाखों की संख्या में अभ्यर्थी इस परीक्षा में बैठते हैं, लेकिन इस परीक्षा में वही अभ्यर्थी सफल हो पाते हैं जो कड़ी मेहनत करते हैं और साथ ही साथ एक सही रणनीति अपनाते हैं. इस परीक्षा को पास करना बहुत ही कठिन होता है. लेकिन कई ऐसे अभ्यर्थी होते हैं जो पहले ही प्रयास में यूपीएससी जैसे कठिन परीक्षा को ही पास कर दिखाते हैं.

आज हम आपको एक ऐसे अभ्यर्थी के बारे में बताने वाले हैं, जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर इस परीक्षा में सफलता हासिल की. आज हम आपको बताने वाले हैं दिव्यांशु सिंघल के बारे में. दिव्यांशु की कड़ी मेहनत और सही रणनीति हर यूपीएससी की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों के लिए एक मोटिवेशन है.

दिव्यांशु ने 2019 में यूपीएससी में सफलता पाई थी. 2019 में उन्होंने ऑल इंडिया में 60 वी रैंक हासिल की. दिव्यांशु राजस्थान के रहने वाले हैं. लेकिन उन्होंने अपने निर्देशन दिल्ली से किया और यूपीएससी की तैयारी उन्होंने ग्रेजुएशन के दौरान ही शुरु कर दी.

जब उन्होंने मास्टर्स किया तब उन्होंने यूपीएससी कोचिंग भी साथ में ज्वाइन कर ली. लेकिन मास्टर्स के तैयारी के दौरान उन्होंने कभी यूपीएससी का एग्जाम नहीं दिया. दिव्यांशु का मानना था कि जब तक आप पूरी तरह से तैयारी नहीं कर लेते आप जंग नहीं जीत सकते. इसलिए दिव्यांशु ने सबसे पहले बेहतर तरीके से अपनी तैयारी की.

दिव्यांशु ने खुद की बनाई रणनीति से यूपीएससी की तैयारी की. उन्होंने मैथ्स ग्रेजुएशन किया. उन्होंने यूपीएससी की तैयारी के दौरान ऑप्शनल सब्जेक्ट में मैथ को ही रखा. मैथ उनका फेवरेट सब्जेक्ट है. दिव्यांशु ने कहा कि किसी और को देखकर अपनी रणनीति नहीं बनानी चाहिए. क्योंकि हर किसी का अलग क्षमता होता है. उन्होंने कहा कि नोट्स पर बना कर पढ़ना आसान होता है.

दिव्यांशु का कहना है कि आप अपने यूपीएससी की तैयारी के दौरान ज्यादा समय रिवीजन पर दें. उन्होंने बताया कि ज्यादा रिवीजन करने से चीजें ध्यान में बैठ जाते हैं.साथ ही साथ उन्होंने यह भी बताया कि एनसीईआरटी की किताबों की फोकस करने से आप यूपीएससी पर अपनी पकड़ बना सकते हैं.